सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, January 24, 2012

भागता मन......


                            १     कंपकंपाता
                                              सिहरता बदन
                                                ठंडी चुभन

                                          २      ठंडी बयार
                                              जलता दिनकर
                                                  है बेअसर.
                                          ३    गिरता  पत्ता
                                              छोड़ रहा बंधन
                                                 नव जीवन .

                                           ४    अहंकार है
                                            मृगतृष्णा की सीढ़ी
                                             मन का धोखा.

                                        ५       कच्ची उम्र
                                             नव कोपल प्राण
                                                दिशाहीनता.

                                       ६     खुशियाँ बाटें
                                           सकारात्मक धारा
                                              अहमियत .

                                           ७    मुक्त हवा में
                                            पत्ता चला मिलने
                                             धरा ही  है माँ .

                                         ८     समेटता सा
                                             धरा का हर अंग
                                               बर्फ का कण .

                                         ९     भागता मन
                                           चंचल हिरनों सा
                                              रफ़्तार संग.

                                         १०   बहाल प्रजा
                                           खुशहाल है नेता
                                               खूब घोटाले.
                                                  :-- शशि पुरवार

20 comments:

  1. शशि जी इस अद्भुत रचना के लिए साधुवाद स्वीकारें...

    नीरज

    ReplyDelete
  2. वाह! सभी हाइकू बहुत सारगर्भित और सुन्दर..बधाई

    ReplyDelete
  3. सभी हाइकु सुंदर हैं शशि जी,सागर में गागर की तरह। शुभकामनायें स्वीकारें।

    ReplyDelete
  4. कवि विहारी जी में कहा है -सतसैया के दोहरे ज्यों नावक के तीर /देखन में छोटे लगे घाव करे गम्भीर |बधाई और शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  5. I loved the 5th, 6th and 8th. Beautiful composition!

    ReplyDelete
  6. aapka bahut - bahut shukriya rajrndra ji , indu ji , kailash ji ,neerav ji , tushar ji saru .......aapki samiksha hamesha hi protsahit karti hai .

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन।


    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं....

    जय हिंद...वंदे मातरम्।

    ReplyDelete
  8. Wonderfully composed poem by Shashi Purvar. And i liked the 3rd one which is about girtha pattha.


    http://www.rachelspassion.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण रचना,..

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति|
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अधिक विचारणीय।

    ReplyDelete
  13. gagar me sagar..shandaar abhivyakti..aapke blog per pahli baar aana hua..accha laga...mere blog par bhee aapka swagat hai...

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन हायेकु शशि जी ...
    अति सुन्दर...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर हायकू लिखा हैं। शशि जी बधाई

    ReplyDelete
  16. सुन्दर विचारणीय हाइकु बधाई स्वीकारे !

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बढ़िया ..

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com