सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Tuesday, January 24, 2012

भागता मन......


                            १     कंपकंपाता
                                              सिहरता बदन
                                                ठंडी चुभन

                                          २      ठंडी बयार
                                              जलता दिनकर
                                                  है बेअसर.
                                          ३    गिरता  पत्ता
                                              छोड़ रहा बंधन
                                                 नव जीवन .

                                           ४    अहंकार है
                                            मृगतृष्णा की सीढ़ी
                                             मन का धोखा.

                                        ५       कच्ची उम्र
                                             नव कोपल प्राण
                                                दिशाहीनता.

                                       ६     खुशियाँ बाटें
                                           सकारात्मक धारा
                                              अहमियत .

                                           ७    मुक्त हवा में
                                            पत्ता चला मिलने
                                             धरा ही  है माँ .

                                         ८     समेटता सा
                                             धरा का हर अंग
                                               बर्फ का कण .

                                         ९     भागता मन
                                           चंचल हिरनों सा
                                              रफ़्तार संग.

                                         १०   बहाल प्रजा
                                           खुशहाल है नेता
                                               खूब घोटाले.
                                                  :-- शशि पुरवार

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com