सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Monday, November 24, 2014

रूखे रूखे आखर


हस्ताक्षर की कही कहानी
चुपके
से  गलियारों  ने
मिर्च
  मसाला
, बनती  खबरे
छपी
सुबह अखबारों में
.

राजमहल में बसी रौशनी
भारी
भरकम खर्चा है
महँगाई
ने बाँह मरोड़ी
झोपड़ियों
की चर्चा है

रक्षक भक्षक बन बैठे है
खुले
आम दरबारों में

अपनेपन की नदियाँ सूखी,
सूखा  खून  शिराओं में
रूखे
रूखे आखर झरते    
कंकर फँसा निगाहों में

बनावटी
है मीठी वाणी
उदासीन
व्यवहारों में
 
किस पतंग की डोर कटी है
किसने
पेंच लडाये है
दांव
पेंच के बनते जाले
सभ्यता
पर घिर आये है

आँखे गड़ी हुई खिड़की पर 
होंठ नये आकारों. में.

------ शशि पुरवार


13 comments:

  1. अप्रतिम गीत
    सुप्रभात।

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. यथार्थ में प्रचलित परम्पराओं को बड़ी खूबसूरत अभिव्यक्ति दी है शशि जी ! बहुत ही सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना बुधवार 26 नवम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. geet-navgeet kee dehari par saras sartah rachna.

    ReplyDelete
  6. वाह ... सामयिक रचना ... आज के हालात का जायजा लेती हुयी भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सार्थक और प्रवाहमयी रचना...लाज़वाब.

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको . कभी यहाँ भी पधारें

    ReplyDelete
  9. अपनेपन की नदियाँ सूखी,
    सूखा खून शिराओं में
    रूखे रूखे आखर झरते
    कंकर फँसा निगाहों में

    सुन्दर मनोहर

    ReplyDelete

मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है . अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com