सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, October 6, 2015

रंग जमाया - छोटी बहर

मन को जिसने
फिर भरमाया

जादू ऐसा
दिल पिघलाया

लगता हमको
प्यारा साया

सखी सहेली
पास बुलाया

महफ़िल में अब
रंग जमाया

हर कोई फिर
दौड़ा आया
-शशि पुरवार
Image result for गुलाब का फूल

6 comments:


  1. आप की लिखी ये रचना....
    07/10/2015 को लिंक की जाएगी...
    http://www.halchalwith5links.blogspot.com पर....
    आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित हैं...


    ReplyDelete
  2. हर कोई फिर
    दौड़ा आया

    ReplyDelete
  3. यदि आपकी रूचि हिंदी कविता पढ़ने-लिखने में है, तो आप गूगल+ पर हमारी कम्युनिटी 'हमारा हिंदी-मंच' (https://plus.google.com/u/0/communities/103937543352029619330) को ज्वाइन कर सकते हैं। लेकिन हमारी इस कम्युनिटी में स्वरचित हिंदी कविताओं के अतिरिक्त कोई भी अन्य सामग्री पोस्ट करना व् एक-दो लाइन की आधी-अधूरी रचनाओं के साथ अपने ब्लॉग पेज व् किसी अन्य वेब पेज अथवा साइट्स को प्रमोट करना सर्वथा वर्जित है।

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com