सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Thursday, March 2, 2017

कहीं प्रेम कहीं शब्दो की होली



फेक का अंग्रेजी अर्थ है धोखा व फेस याने चेहरादुनिया में आभाषी दुनिया का चमकता यह चेहरा एक मृगतृष्णा के समान है जो आज सभी को प्यारा मोहित कर चुका हैनित्य समाचार की तरह सुपरफास्ट खबरे यहाँ मिलती रहती है.कहीं हँसी के ठहाकेकहीं आत्ममुग्ध तस्वीरेंकहीं प्रेमकहीं शब्दों की बंदूकेंबड़े पन का एहसासजैसे आज दुनियाँ हमारे पास है,जैसे दुनियाँ बस एक मुट्ठी में समां गयी है


  होली का त्यौहार भी बहुत रंगीन होने लगा है फेसबुक ने हमारी दुनिया में ऐसा कदम रखा है कि भूत भविष्य व वर्तमान साथ चलने लगे हैं, जी हाँ आप इस वर्ष होली खेलेंगे किन्तु  पुरानी यादों के साथ, फेसबुक आपकी  पुरानी यादें आपको पग पग पग पर तस्वीर या वीडियो बनाकर तोहफे में देता है, लो भाई हो गयी होली रंगीन।इसके रंग भी उतने ही खूबसूरत हैं. जहाँ महकती यादें गुदगुदाती हैं वहीँ बेरंगी यादें जिन्हें हम याद करना भी नहीं चाहतें है, वह आभाषी दुनिया हमें भूलने नहीं देती है.


  जी हाँ, जनाब हमें शर्मा जी को देखकर तरस खाने को जी चाहता है।हमारे शर्मा जी फेसबुक पर जवान होकर नयन मटक्का कर रहे थे और होली के दिन यही मटक्का उन पर भारी पड़ गया, आदतन फेसबुक ने अपने जोहर दिखाए और सारी बातचीत रिश्तें अचानक बिन मौसम बरसात की तरह होली के दिन सबके समक्ष हाजिर होकर अपना रंग बरसा रहे थे। उनकी बीबी को काटो  तो खून नहीं वाले हालात थे, बमुश्किल गृहस्थी की नैया संभली, तिस पर फिर होली के दिन फेसबुक फिर यही तोहफा देने पर आमादा है, होली के दिन भांग का अपना महत्व है लेकिन अब सोशल मीडिया की भांग का नशा सबके सर पर चढ़ कर बोलने लगा है।जहाँ एक तरफ रंगीन दुनियां है वहीँ उसके ऐसे रंग जो कभी मिटाये नहीं मिटेंगे। शायद हम मिट जाये, पर यह रंग अमर हो जायेंगे और इन रंगों में डूबे हुए आसमान से खुद को देखेंगे। हम वर्ष में एक दिन होली खेलते हैं, फेसबुक हर दिन, हर पल, नैनों से, शब्दों - बातों की, सुलगती पींगों से होली खेलता है. कहीं दिल सुलगते हैं कहीं घर जलते हैं, लेकिन होली के रंग जीवन में यूँ ही मुस्कुरातें गुदगुदाते बरसते हैं। होली में छेड़खानी न हो, शर्म से पानी- पानी ना हो तो होली कैसी।सोशल मीडिया में तस्वीरें पोस्ट करने के लिए लोग होली न खेलें किन्तु रंग लगाकर अपनी तस्वीरें जरूर पोस्ट करेंगे, सत्य कौन देखता है आज तस्वीरें बोलती है. छाया चित्रों का जमाना है तो छाया वादी होली हो क्यों संभव नहीं। 


                आज सुबह से श्रीमती जी हमें भी अपने शब्द वाणों से रंग लगा रही थी, हमारे नैना सोशल मीडिया से चार होने के लिए बेताब थे. दिल की हसरतें बाहर बरसना चाहती थी किन्तु घर का रंग, बदरंग न हो जाये हमने चुप चाप गुलाबी रंग लगाकर घर का माहौल भी गुलाबी करने का मन बना लिया। आखिर जाएँ भी तो कहाँ जाएँ ? चाय पकोड़े का नशा उतरने को तैयार नहीं था, हमने हाथों में  मोबाइल से नैना चार करके गुपचुप अपनी होली को  अंजाम दे दिया। क्या करें और किसी को छेड़ना मना है। 


                     आज किसी  व्यंग्यकार को रंग लगाना जैसे आ बैल मुझे मार वाली बात करना है , बैल तो फिर भी मार कर जख्मी करेंगे जिसका इलाज कोई वैध कर देगा, घाव भर जायेगा लेकिन व्यंगकार के रंग इतने पक्के होते है कि उनके गुब्बारे की मार के निशान कई वर्षो तक  देख सकतें है. रंग भी ऐसा  कि साबुन की टिकिया ख़त्म हो जाएगी पर रंग न निकलेगा, पक्का रंग उन्ही की झोली में छुपा होता है. कहतें हैं न हींग लगी न फिटकरी फिर भी रंग चोखा चोखा।  मिठाई भी इतनी चोखी रखें कि खाये बिन मजा न आये,  हसगुल्ले हभी ऐसे खिलावें कि न निगलते बने न खाते बने. इनके रंग  तीर के ऐसे लगे होते हैं कि लगते ही  पूरे शरीर को रंग देते हैं।  एक तीर छोड़ा तो रंगने वाला खुद आकर पानी में डुबकी लगा लेता है।  हाय ऐसे रंग सीधे दिल से निकालकर दिल को भेद रहे थे। होली है तो बिना गुझिया के काम  चलेगा, आज सोच रहें है बाजार से गुझिया खरीद लें , और गत वर्ष कुल्फी खायी थी वही जाकर खा लेंगे, उसका नशा कुछ अलग ही होता है 
 होली की रंग भरी मस्ती भरी शुभकामनाएँ - शशि पुरवार 

9 comments:

  1. सुन्दर प्रसंग होली का .... आपको रंगों के त्यौहार की बधाई ...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’झूठ के लिए सच को दबाने का शोर - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  3. होली के रंग। .
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  5. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (05-03-2017) को
    "खिलते हैं फूल रेगिस्तान में" (चर्चा अंक-2602)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  6. बहुत रोचक...होली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर, होली की शुभ कामनाएँ

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com