Sunday, December 24, 2017

नवपीढ़ी का इतिहास

    
नव पीढी ने रच दिया, यह कैसा इतिहास 
बूढी सॉंसें काटती, घर में ही वनवास १ 
  
दौलत का उन्माद है, मदहोशी में चूर 
रिशते आँखों में चुभे, ममता चकनाचूर २  

शहरों में खोने लगा, अपनेपन का भाव
जो अपना मीठा लगे, देता मन पर घाव ३  

बंद हृदय में खिल रहे, संवेदन के फूल 
छंद रचे मन बाबरा, शब्द शब्द माकूल ४ 

एक अजनबी से लगे,अंतर्मन जज्बात 
यादों की झप्पी मिली, मन, झरते परिजात ५ 


ऐसे पल भर में उड़े, मेरे होशहवास 
बदहवास सा दिन खड़ा, बेकल रातें पास ६ 
- शशि पुरवार 

 

17 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (25-12-2017) को "क्रिसमस का त्यौहार" (चर्चा अंक-2828) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    ReplyDelete
  2. दिनांक 26/12/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...

    ReplyDelete
  3. सार्थक रचना

    ReplyDelete
  4. बहुत ही लाजवाब हैं सभी दोहे ...

    ReplyDelete
  5. aap sabhi blogger mitron ka hraday se abhar , aapki anmol pratikriya ne rachna ko khas bana diya hai abhar sneh yun hi bana rahe

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ,सार्थक....
    वाह!!!

    ReplyDelete
  7. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद ब्लॉग पर 'शुक्रवार' २९ दिसंबर २०१७ को लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    ReplyDelete
  8. वाह ! सुन्दर सार्थक दोहे ! बहुत खूब !

    ReplyDelete
  9. वर्तमान समय का दर्शन कराती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. वाह!!बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  11. आदरनीय शशि जी - मर्मस्पर्शी रचना है आपकी -- सार्थक लेखन के लिए हार्दिक बधाई --

    ReplyDelete
  12. aap sabhi ka hardik dhnyavad mitron

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

  तोड़ती पत्थर  वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम त...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com