Thursday, December 20, 2018

हम आंगन के फूल

आंगन के हर फूल से,  करो न इतना मोह 
जीवन पथ में एक दिन, सहना पड़े बिछोह 
सहना पड़े बिछोह, रीत है जग की न्यारी 
होती हमसे दूर, वही जो दिल को प्यारी 
कहती शशि यह सत्य, रंग बदलें उपवन के 
फूल हुए सिरमौर, ना महकते आंगन के 

चाहे कितनी दूर हो, फिर भी दिल के पास 
राखी पर रहती सदा, भ्रात मिलन की आस 
भ्रात मिलन की आस, डोर रेशम की जोड़े 
मन में है विश्वास , द्वार से मुख ना मोड़े 
कहती शशि यह सत्य, मथो तुम मन की गाहे 
इक आँगन के फूल, मिलन हो जब हम चाहें 

शशि पुरवार




4 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (21-12-2018) को "आनन्द अलाव का" (चर्चा अंक-3192) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. Very Nice.....
    बहुत प्रशंसनीय प्रस्तुति.....
    मेरे ब्लाॅग की नई प्रस्तुति पर आपके विचारों का स्वागत

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



छैल छबीली

छैल छबीली फागुनी, मन मयूर मकरंद ढोल, मँजीरे, दादरा, बजे ह्रदय में छंद। 1 मौसम ने पाती लिखी, उड़ा गुलाबी रंग पात पात फागुन धरे,...

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com