सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, January 13, 2012

श्वेत चादर .........!



                     १ )   शीत लहर
                         अदरक की चाय
                            गरम चुस्की   .

                                   २ )    जमती झीले
                                          चमकती चांदनी
                                             श्वेत चादर .

                      ३)   हिमपात  है
                          तपती धरा पर,
                           शितोपचार .

                                        ४)   बर्फ ही बर्फ
                                           बिखरी चारो तर्फ
                                             अकेली जान .

                 ५) बर्फ सा पानी
                  कांपती जिंदगानी
                    है गंगा स्नान .

                                    ६ )  जमता खून
                                      हुई कठिन सांसे
                                        फर्ज - इन्तिहाँ .

              ७) शीत प्रकोप
             सैन्य बल सलाम
                देश में जान .

                                 ८) खिलखिलाता
                                हुआ आया  है भानू
                                    गर्म छुअन .
         
                                          : -- शशि पुरवार

33 comments:

  1. Replies
    1. BAHUT -BAHUT SHUKRIYA
      SRIVASTAV JI
      RAJENDRA JI ...
      RAJESH KUMARI JI
      MATHUR JI

      Delete
  2. creatively nice!bahut kam shabdo me bahut prabhavsali kavita!

    ReplyDelete
  3. सुंदर हाइकु।

    ReplyDelete
  4. My favourite one-

    शीत लहर
    अदरक की चाय
    गरम चुस्की.

    Lovely.

    ReplyDelete
  5. लोहडी और मकर संक्रांति की शुभकामनाएं.....


    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
    Replies
    1. namaskar atul ji aapko bhi lohdi aur makarsankranti ki shubhkamnaye . hamari post ke select karne ke liye hardik shukriya .

      Delete
  6. Different and lovely...It snowed a bit here today and your words added beauty to it:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you so much saru .....:)
      happy makarsankranti .and lohdi

      Delete
  7. बहुत सुन्दर और प्रतीकर्थक

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएँ |बधाई और शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  9. शीत लहर
    अदरक की चाय
    गरम चुस्की.

    गर्म धुप में आपके हाइकुओं की बौछार मज़ा दिला गयी. वैसे इसका आनंद मैंने चाय की चुस्कियां लेते हुए ही किया है.

    ReplyDelete
  10. शीत लहर
    अदरक की चाय
    गरम चुस्की .waah.

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब !...बहुत सुन्दर हाइकू...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्‍दर त्रिपदम् ...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर त्रिपदियां।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्‍दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  15. शीत लहर
    अदरक की चाय
    गरम चुस्की

    अच्छी लगी ,आपकी यह क्षणिकाएँ
    vikram7: महाशून्य से व्याह रचायें......

    ReplyDelete
  16. अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है. आनंद आया पढ़कर.

    ReplyDelete
  17. गज़ब की हाइकू है सारे ... कम शब्दों में बात कहना आसान नहीं ... पर कर दिखाया आपने ...

    ReplyDelete
  18. बहुत ही अच्छी लगी शशि जी आपके सारे के सारे हाइकू
    मजा आ गया ठंडकता और तपन का

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com