सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Friday, January 13, 2012

श्वेत चादर .........!



                     १ )   शीत लहर
                         अदरक की चाय
                            गरम चुस्की   .

                                   २ )    जमती झीले
                                          चमकती चांदनी
                                             श्वेत चादर .

                      ३)   हिमपात  है
                          तपती धरा पर,
                           शितोपचार .

                                        ४)   बर्फ ही बर्फ
                                           बिखरी चारो तर्फ
                                             अकेली जान .

                 ५) बर्फ सा पानी
                  कांपती जिंदगानी
                    है गंगा स्नान .

                                    ६ )  जमता खून
                                      हुई कठिन सांसे
                                        फर्ज - इन्तिहाँ .

              ७) शीत प्रकोप
             सैन्य बल सलाम
                देश में जान .

                                 ८) खिलखिलाता
                                हुआ आया  है भानू
                                    गर्म छुअन .
         
                                          : -- शशि पुरवार

linkwith

sapne-shashi.blogspot.com