सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, February 8, 2012

थकित कदम....!



                चुपचाप  हौले  से , वाट  जोहते  है तेरी ,
                धीरे से अब तो आ जाओ , खुशियाँ 
                        दामन  में मेरी ....!

                   पेशानी की सलवटो को छुपाते 
                  दर्द की ज्वाला को दिल में दबाते ,
                   अधरो  पे   हैं   मुस्कान  लाते 
                       जीवन के रण में बस , 
                    कैक्टस  को ही गिनते  जाते ..!

                रूत बदली  , बसंत ने ली अंगड़ाई 
                   नवकोपलों  पे   है,  खुमारी छाई .
                झरते पत्ते दे रहे पुनरागमन का पैगाम ,
                 फिर कब ख़त्म होगा सब्र का इन्तिहाँ .


               बीतते वक्त  के साथ , मद्धम होती रौशनी 
                 जर्जर तन , थकित कदम , सुप्त सा मन .
                 एक सा लागे सारा मौसम ....बसंत .
                   ऐसे ही खाली जाम के संग ,
                    जीवन से रुकसत होते हम .....!

                  चुपचाप , हौले  से वाट जोहते है तेरी ,
                     अब तो आ जाओ ...खुशियाँ  ....
                       दामन में मेरी .............!
                                               :-- शशि पुरवार 

        कभी -कभी ऊपर वाला भी सितम करता है , 
भरे हुए जाम को सदैव छलकाता है और जिसका प्याला खाली है उसका खाली ही रह जाता है ....! 
थोडा सा जाम यदि खाली प्याले में गिरे तो मन तृप्त  हो जाता है ..........पर जिसके जाम गिरते  रहते है.... उन्हें कहाँ किसी का दर्द नजर आता है .......!
                             :----शशि  पुरवार.



26 comments:

  1. waah!!
    bahut bhaavpoorn prastuti shashi jee..

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति पुरवार जी बधाई हो आपको

    ReplyDelete
  3. भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति शशि जी
    मधुर पंक्तियाँ ...
    रुत बदली, बसंत ने ली अंगडाई
    नव कपोलों पे है खुमारी छाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. indu ji ,
      udan ji . aur bikhre huye sangthan se .............aap sabhi ka hardik shukriya .

      Delete
  5. Bahut khoob mam,
    achcha laga aapka Blog.
    Kripya humaare Blog pe aane ka kasht bhi karen.

    http://anjaanakhwaab.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. neelkamal ji aur aur aapka hardik abhar .

      Delete
  6. You have written apt words Shashi...Very few can feel or understand what others go through...

    Powerful writing...

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you so much saru ........your words always gives me strong feeling and thank u so much for your lovable comments .

      Delete
  7. मन के भावो को शब्दों का साथ जो मिला तो ...मन में दबी कुछ अनकही बाते खुदबखुद सामने आ गई ....शब्दों का जादू चल गया ...आभार

    ReplyDelete
  8. anju ji bahut -bahut shukriya ...itna pyar dene ke liye .

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब लिखा शशि जी भाव पूर्ण प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  10. स कविता के माध्यम से आपने अपनी अभिव्यक्ति को नया आयाम दिया है जो किसी भी संवेदनशाल व्यक्ति को अधीर कर देने में सार्थक सिद्ध होगी । मेरे नए पोस्ट "जय प्रकाश नारायण" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  11. नियति और कर्म का शाश्वत द्वंद्व।

    प्रभावी रचना।

    ReplyDelete
  12. Its a new look orf Dr shashi purvar. fine literary expression... Congratulations

    ReplyDelete
    Replies
    1. deepak ji , mahandra ji , prem ji hardik dhanyavad .... uttsah vardhak tipni ke liye .

      dr. aditya ji thank you so much for liking my blog and writing . but i am not dr. sir ......welcome on my blog .:)

      Delete
  13. As usual shashi .. tum bahut behtareen likhte ho...:)

    thora sa jaam khali pyale me gire, to man tript ho jata hai...!! bahut khub!!

    ReplyDelete
  14. Bilkul sahi kaha jiske jaam chalakte rehte hai usse kahan kisi ka dard nazar aata hai..bahut hi sundar kavita likhi hai...:)

    ReplyDelete
  15. sahi likha hai aesa hi hota hai bhavpurn prastuti
    rachana

    ReplyDelete
  16. अंतर्मन के सुंदर भाव..... मनमोहक ख्याल

    ReplyDelete
  17. शशि जी बेहद भावपूर्ण रचना लगी .........हाँ रहा सवाल जम का तो मै कुछ दिन पूर्व में लिखी कविता को दोहरा रहा हूँ ...

    ये साकीं की सराफत थी जाम को , कम दिया होगा .|
    तुम्हारी आँख की लाली को उसने पढ़ लिया होगा ||
    बहुत खामोशियों से मत पियो ऐसी शराबों को |
    छलकती हैं ये आँखों से कलेजा जल गया होगा ||

    ऊपर वाला जो भी करता है अच्छा ही करता है ......भगवन के घर देर है अंधेर नहीं है ...इंजर का फल मीठा होता है |

    बहुत ही खूब सूरत रचना के लिए ......कोटि कोटि बधाई स्वीकारें |

    ReplyDelete
  18. वाह बहुत ही बेहतरीन रचना .....

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com