सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, March 5, 2012

प्रस्फुटन बसंत ........ रंगो की बौछार ...... होली में है खास ......!



         गीत .....    
                                भरी  पिचकारी  ,
                                 छाई   है  खुमारी
                                 भीगा  तन - मन ,
                               मोरे  कान्हा   तोरे  संग .
 
                                 भीगी अंगिया  चोली ,
                                   रंगो  की है होली
                                    प्यार  बेशुमार  ,
                                नशा  चढ़े बार -बार .

                                   नयन   मिले  ,
                                   धड़कन   बढे
                                   नटखट  सैयां
                                   मोहे  अंग लगे .

                             
                                   रंगो  की   बौछार   ,
                               नहीं गिले -शिकवे आज
                                  प्रेम  की  फुहार  ,
                              है  यह  मिलन का त्यौहार.

                               खुशियाँ  आये बार -बार ,
                                   मन की पुकार
                               मोरे  कान्हा   तोरे  संग  ,
                                जुड़े  है  दिल के तार .
                                     
                                           भर पिचकारी .........!
                                                       
----------------------------------------- !!!!!!!!!!!!!!!          !-------------------------------------
        क्षणिकाए..................!
                
                                            १ )  करे श्रींगार
                                                पिया का प्यार
                                                लज्जा गुलाबी
                                               अधर हुए लाल
                                                 रंग -अबीर से
                                                   रंगे  है गाल.

                                            २)  गुझिया  पपड़ी
                                                  भांग की कुल्फी
                                                 होली में  है खास ,
                                                   बाजारो की
                                                   रौनक बढाये
                                               रंग बिरंगी पिचकारी ,
                                                  और  गुलाल .
                                                   पटी  है दुकाने
                                               आये नटखट बाल गोपाल .

                                              ३)  फूलो पत्तो का
                                                   प्रस्फुटन  बसंत
                                                  प्रकृति करती सृजन
                                                     बयार की उन्माद
                                                   फैला चारो दिशाओ
                                                        में उल्लास .

                                               ४)  गुब्बारो  में
                                                    भर के  पानी  ,
                                                  फैके बालगोपाल
                                                   बड़े - बूढ़े भागते
                                                      इधर -उधर
                                                 छिटके रंगो की मार
                                                  बुरा न  मानो होली है
                                              सब तरफ गूंजे यही आवाज .
  -----------------------------!                !----------------------------
   हयुक .............!
                            

                                              १ )  ले पिचकारी
                                                   भरे रंग गुलाबी
                                                   छोरो की टोली

                                              २)   खिले पलाश
                                                  अंबुआ की बहार
                                                     फागुन आया .

                                                ३) रंगो की होली
                                                  मिलन का त्योहार
                                                     गुझिया
खास .

                                                ४) ले पिचकारी
                                                   भरे रंग गुलाबी
                                                     बाल गोपाल .


                                                ५)  उड़े गुलाल
                                                  रंगो का है खुमार
                                                     प्यारी सौगात .
      
                                               ६) कृष्ण राधा की
                                                 प्यार की  है प्रतिक
                                                       अमरबेल .

                                                        :-------शशि  पुरवार

----------------------------------------------!                      !-------------------------------
 
दोस्तो   इस बार सोचा की होली पर सब रंग  बिखेरूं .....इसीलिए  मिली जुली प्रस्तुति .......आप सभी को होली की  हार्दिक शुभकामनाये ...........
होली का त्यौहार,
रंगों की बौझार
गुब्बारो की मार
दोस्तों का प्यार
मिठाइयाँ खास
आप सभी के जीवन में रंगो की बौझार हो ............हर पल महकता सा, अधरों पे मुस्कान का राज हो .....:)))))..............हैप्पी होली ............. आपको एवं आपके परिवार को .
 
--------- शशि पुरवार 
 

30 comments:

  1. बहुत बढ़िया होली के भाव की अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...बधाई

    NEW POST...फिर से आई होली...
    NEW POST फुहार...डिस्को रंग...

    ReplyDelete
  2. wah!!!!!!!!!!
    Shashi ji,bahut hi manbhaawan,sunder holi ki prstuti....
    dil padhker khushi se jhoom utha hai.....
    aapko aur aapke pariwaar ko ran-birangi holi ki dheron shubhkaamnaayen.....

    indu

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks indu ji .......:)) holi ki hardik badhai .aapne to hamen muskaan de di rang bhari .:)) happy holi

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya atul ji hamen shamil karne ke liye .:)

      Delete
  4. शशी जी आपकी इस काव्यमय पोस्ट में कविता के सरे रंग शामिल है |पढ़कर मन प्रसन्न हो गया |होली की शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya tushar ji ......aapko bhi holi ki shubhkamnaye

      Delete
  5. WOW, you are celebrating holi with words. What's better than that for a poet...:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. thank you so much saru ..........:)) happy holi

      Delete
  6. होली के इस रंगमय त्यौहार पर रंग बिरंगी क्षणिकाएं हाइकु अच्छी लगी तमाम रंगों से सजे शब्द होली का आभास दी गए इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya deepak ji ..........is sunder shabdo ki tipni ke liye abhar . holi ki shubhkamnaye aapko bhi !

      Delete
  7. बहूत हि बढीया
    बहूत हि बेहतरीन है सभी प्रस्तुती..
    होली पर्व कि शुभकामनाये

    ReplyDelete
  8. सभी रचनाएं होली के रंगों से सराबोर हैं।

    होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...

    कल 07/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!


    '' होली की शुभकामनायें ''

    ReplyDelete
  10. होली के पर रंग बिरंगी क्षणिकाएं हाइकु सभी रंगों का अहसास दे गए ...सुन्दर प्रस्तुति....आपको होली की सपरिवार हार्दिक बधाई....

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया रंगबिरंगी होली की सुन्दर प्रस्तुति...
    होली की आपको सपरिवार शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  12. सभी रंग भरी रचनाओं के आभार ...होली पर ढेर सी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  13. आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  14. सभी रंगों से सराबोर कर दिया आपने शशि जी ! सुंदर प्रस्तुति !
    होली मुबारक !

    ReplyDelete
  15. ना दिखी राधा
    ना दिखी पिचकारी
    पता नहीं
    कब आकर गले मिली
    करी
    मुझ से आँख मिचोली
    खेली मुझ से होली
    भांग के नशे में
    सुध बुध मैंने खो दी थी
    आज से कसम खाली
    अब नहीं पियूंगा भांग
    अगली होली पर
    बेचैनी से करूंगा
    इंतज़ार राधा का
    उसके संग होली
    खेलने का

    ReplyDelete
  16. सुंदर रचनाएँ ...बधाई

    http://bikharemotee.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया सुन्दर रचनाओं की प्रस्तुति,....बधाई

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  18. विभिन्न रंगों से सजी सभी रचनाएँ बहुत सुंदर और रोचक...

    ReplyDelete
  19. गीत क्षनिकायं और हाइकू ... सभी आज होली के रंग में रंगे हुवे हैं ... सच कहूँ तो तीनों में काँटा का जिक्र है और शायद कृष्ण की बिना होली भी फीकी होती है ...
    आपको और आपके समस्त परवर को होली की मंगल कामनाएं ..

    ReplyDelete
  20. शशि जी . वाकई आप ने होली पर अपनी रचनाओं के रंग से होली के त्यौहार को सराबोर कर दिया .....सभी रचनाएँ एक से बढकर एक निकलीं .....बिलकुल रचनाकरों की होली ऐसी ही होनी चाहिए ....सुन्दर और प्रभावशाली रचनाओं के लिए सादर आभार ...साथ ही होली पर हार्दिक शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  21. हर विधा में कमाल!! वाह!

    ReplyDelete
  22. बहुत बढ़िया..बस वाह कहने को जी कह रहा है..

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com