Friday, March 16, 2012

नाजुक धागे .................बसा है बागवान .




तांका---------------      
                                १   आये  अकेले  
                                    दुनिया के झमेले 
                                    जाना है पार ,
                                   जिंदगी की किताब 
                                    नयी है हर बार .                     

                                 २  ढलती  उम्र 
                                    शिथिल है पथिक 
                                     अकेलापन ,
                                  जूझता है जीवन 
                                   स्वयं  के कर्मो संग .

                               ३  पैसे  का नशा 
                                  मस्तक पे है  चढ़ा 
                                    सोई चेतना ,
                                  नजर का है धोखा 
                                   वक्त जब बदला .

                               ४   यादो के पल 
                                   झिलमिलाता कल 
                                    महकता है ,
                                    दिलो के अरमान 
                                    बसा है बागवान .

                
                               ५   तेज रफ़्तार 
                                  दूर है  संगी -साथी 
                                     न परिवार ,
                                  जूनून है सवार 
                                 मृगतृष्णा की प्यास . 

                              ६  बालियो  संग 
                                 मचलता यौवन 
                                 ठिठकता सा  ,
                                 प्राकृतिक सौन्दर्य 
                                 लहलहाता वन .
                               
                                           
                                   
हयुक ------------------
                                  १  नाजुक धागे 
                                      मजबूत बंधन 
                                       गठबंधन .

                                   २ तीखी चुभन 
                                     सूखे गुलाब संग 
                                       दीवानापन .

                                   ३  सर्द है यादे 
                                    शूल बनी तन्हाई  
                                        हरे नासूर .

                                ४ प्यासा  है मन 
                                   साहित्य की अगन 
                                     ज्ञानपिपासा .

                                 ५  कलम करे 
                                    रचना का सृजन 
                                     मनभावन .
                          
                                ६    अभिव्यक्ति की 
                                     चरम अनुभूति 
                                       है स्पंदन .
                                                 :-------- शशि पुरवार
                          




                                     

30 comments:

  1. वाह शशि जी....शब्दों के बंधन के बावजूद अभिव्यक्ति में कोई कसर नहीं.....
    तांका तो खास तौर पर बहुत बढ़िया..
    ५,७,५,७,७ का नियम बड़ा कठिन है...
    हायेकु भी लाजवाब..

    बधाई....

    ReplyDelete
    Replies
    1. shukriya yashvant ji ,


      anu ji abhar aapko tanka pasand aaya . gaharai se padha aapne ..:)

      Delete
    2. yes i read with interest...
      मेहनत से लिखा जो गया है...

      आपको मेल किया है....pls check.
      :-)

      Delete
  2. Replies
    1. बेहतरीनं हाइकू, रचना अच्छी लगी,...शशी जी ,..बधाई

      MY RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...
      उपर कमेंट्स भूल बस गलत पोस्ट हो गया,कृपया हटा दे,...

      Delete
  3. Behtereen prastuti....

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही उम्दा हायकू लिखा है आपने शशि जी |

    ReplyDelete
  6. लाजवाब ... दोनों ही में आपकी महारत है ... तांका तो जैसे जीवन दर्शन लिए हुवे अहिं और हाइकू भी अपनी बात समझाने में सक्षम हैं ...
    बहुत ही उम्दा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. digambar ji , tushar ji , indu ji atul ji aap sabhi ka hardik abhar

      Delete
  7. man mein ho rahaa spandan
    pasand

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब! बहुत सारगर्भित और सटीक...

    ReplyDelete
  9. सच में दिल से लिखी आत्मा की आवाज सी रचनाएँ ,बहुत खुबसूरत

    ReplyDelete
    Replies
    1. rajendra ji , anupama ji , kalash ji ,arajput ji ........shukriya aap sabhi ka

      Delete
  10. आप के ब्लॉग पर पहली बार आया हूँ ! चुटकी सी बाते अच्छी लगी ! अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति.....बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  12. बहुत प्रभावशाली पद्य कणिकाएं।
    कम शब्दों में गहरी बात...।

    ReplyDelete
  13. क्या तांका है..और हायकु का जवाब नहीं। बधाई।

    ReplyDelete
  14. BEAUTIFUL PRESENTATION OF FEELINGS AND EMOTIOPNS OF LIFE .THANKS

    ReplyDelete
  15. pankaj ji mradula ji ,mahendraji ,shaw ji nisha ji , singji ........upasthithi ke liye abhar .

    ReplyDelete
  16. सबसे पहले हमारे ब्लॉग 'खलील जिब्रान'पर आपकी टिप्पणी का तहेदिल से शुक्रिया.........आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ...........पहली ही पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब...........आज ही आपको फॉलो कर रहा हूँ ताकि आगे भी साथ बना रहे|

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को भी)

    http://jazbaattheemotions.blogspot.in/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.in/
    http://khaleelzibran.blogspot.in/
    http://qalamkasipahi.blogspot.in/

    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    ReplyDelete
  17. vah Shashi ji bahut bhavukata se paripoorn rachana .....bilkul nayee abhivyakti lagi ...badhai sweekaren

    ReplyDelete
  18. कम शब्दों में खूबसूरत प्रस्तुति ......बहुत खूब

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

तोड़ती पत्थर वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम तन,...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com