सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, July 8, 2014

पीपल वाली छाँव जहाँ ...


मित्रो लम्बे समय के अवकाश के बाद वापसी की है उम्द्दी  उम्मीद है आपका स्नेह सदैव यूँ ही बना रहेगा ,

बिछड़ गये है सारे अपने
संग-साथ है नहीं यहाँ,
ढूँढ रहा मन पीपल छैंयाँ
ठंडी होती छाँव जहाँ.

छोड़ गाँव को, शहर आ गया
अपनी ही मनमानी से,
चकाचौंध में डूब गया था
छला गया, नादानी से
मृगतृष्णा की अंधी गलियाँ
कपट द्वेष का भाव यहाँ
दर्प दिखाती, तेज धूप में
झुलस गये है पाँव यहाँ,

सुबह-साँझ, एकाकी जीवन
पास नहीं है, हमजोली
छूट गए चौपालों के दिन
अपनों की मीठी बोली
भीड़ भरे, इस कठिन शहर में
खुली हवा की बाँह कहाँ

ढूंढ़ रहा मन फिर भी शीतल
पीपल वाली छाँव यहाँ।
--- २  जून - २०१४ 

25 comments:

  1. गुज़रते समय के साथ सब कुछ छूट जाता है यादों के सिवा ....
    मन के भाव लिख दिए आपने ...

    ReplyDelete
  2. प्रखर यादें ....निखारे भाव ....सुंदर अभिव्यक्ति शशि जी ...!!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर रचना.
    राजेंद्र मेहता,नीना मेहता के एक पुराने गीत की याद ताजा हो आई.........
    एक प्यारा सा गाँव
    जिसमें पीपल की छांव .....

    नई पोस्ट : अपेक्षाओं के बोझ तले सिसकता बचपन

    ReplyDelete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  5. ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, रेल बजट की कुछ खास बातें - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति |
    नई रचना मेरा जन्म !

    ReplyDelete
  8. ..सुंदर अभिव्यक्ति शशि जी

    सच कहती पंक्तियाँ .
    Recent Post …..दिन में फैली ख़ामोशी

    ReplyDelete
  9. कल 11/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. कितना कुछ खो दिया थोडा सा पाने को...बहुत मर्मस्पर्शी रचना..

    ReplyDelete
  11. मन के भाव लिख दिए आपने ...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. आप सभी के स्नेह से अभिभूत हूँ , आप सबकी अनमोल प्रतिक्रिया हेतु तहे दिल से आभार .

    ReplyDelete
  14. स्वागत है , खूबशूरत चित्र उकेरा है आप ने आज की भागमभाग जिंदगी की

    ReplyDelete
  15. कहने को भले ही यादें हो ,
    पर मन में अब भी ताज़ा हैं... सुन्दर भावाव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. विगत स्म़तियों की गंध समेट सुन्दर कविता - पर अब वहाँ वैसा कुछ नहीं है !

    ReplyDelete
  17. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  18. वे दिन तो अब सिर्फ यादों में बाक़ी हैं...बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  19. purani yaado ka jhonka baha diya .. bahut acchi kavita ji

    ReplyDelete
  20. purani yaado ka jhonka baha diya .. bahut acchi kavita ji

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com