Saturday, August 3, 2019

"धूप लिखेंगे छाँव लिखेंगे


"धूप लिखेंगे छाँव लिखेंगे " आ. रविन्द्र उपाध्याय जी के गीत गजलों का  संग्रह है, प्रथम  खंड में  गीत  व द्वितीय  खंड में गजलों का अतिविशिष्ट  संकलन है।  प्रथम गीत  खंड में ४४ गीतों का समावेश है,  गीत एक से बढ़कर एक अपनी विशेष रसानुभूतिविशिष्टता का  अहसास कराते हैं. सीप में बंद मोती जैसे अनुपम गीत, विचारों को झकझोरते है.  

आ. रविन्द्र उपाध्याय जी के संग्रह  "धूप लिखेंगे छाँव लिखेंगे "  में गीतों की सादगी, सहजतासरल अभिव्यक्तिअनूठे बिम्ब कथ्य का सम्प्रेषणस्वरों की तल्खीसच्चाई,शब्दों का संचयफक्कड़पन  गीतों की विशेषता हैं.  जैसा कि नाम से प्रतीत होता है धूप लिखेंगे छाँव लिखेंगेकवि ने जीवन की सभी संवेदनाओं को खूबसूरती से गीतों में समेटा है। संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मे गीतसंघर्षों  व खुशियों के कोलाहल में दबी हुई आह को,  बेहद खूबसूरती  सम्प्रेषित करते हैं। गीतों में बिम्बशिल्प सहजता, सम्प्रेषण विलक्षण हैपाठकों से सार्थक संवाद करते हुए गीत मंजिल की तरफ बढ़ते कदमों का दिलकश निमंत्रण है.

      संग्रह के  शीर्षक गीत  में ही कवि ने अपनी मंशा को व्यक्त किया है खुशियों के मधुमास के अतिरिक्त जीवन के अंधेरोंउदासीनता, निष्क्रियता, संघर्ष  को भी लयात्मक स्वर प्रदान कियें हैं. कवि के गीतों में विशेष संकल्पधर्मी चेतना का स्वर है. यथास्थिति  से पलायन न करना, दृढ़ इक्छाशक्ति से परिस्थितियों के संग चलते हुए गतिशील रहने का आनंद ही कुछ और है.  पाठकों से सार्थक संवाद करते गीतों की कुछ  बानगी देखिये ---
 
धूप लिखेंगेछाँव लिखेंगे / मंजिल वाली राह लिखेंगे 
खुशियों के कोलाहल में जो / दबी -दबी हैआह लिखंगे 
हम विरुद्ध हर दमन -दम्भ के /होकर -बेपरवाह लिखंगे। 

 
शब्द को जब आचरण आचरण का बल मिलेगा /
अर्थ को विश्वास का सम्बल मिलेगा सामना सच का करेंगे /मुँह सिलेगा
हृदय से हुंकारिए -पर्वत हिलेगा 

  जीवन में कुछ कर दिखाने की ललक इंसान के भीतर होनी चाहिए, सकारात्मक ऊर्जा से भरती गीत की यह पंक्तियाँ जीवन को बिंदास, भय मुक्त जीने की तरफ प्रेरित करती हैं। 

 
फूँक कर चलने में /खतरे का नहीं है डरमगर 
तेज चलने का मजा कुछ और है। 
धधक कर जो जल गया /पा गया इतिहास में वह ठौर है.  


४ गा रहे झरने कहीं पर / कहीं मरुथल की तपन है
थकन है, गति की तृषा भी / लगी मंजिल की लगन है

समय के साथ सामाजिक मूल्य भी परिवर्तित हुए हैं. सलोनेपन, सहज कोमलता, भाव अभिव्यक्ति  की जगह कुटिलता मूल्यों पर हावी होने लगी है. संवादहीनता, बंधन, गति को बाध्य करते है. यह परिवर्तन कहीं न कहीं मूल्यों को खोखला कर रहा है. मानवीय प्रवृति है कि जितना मिलता है, उससे ज्यादा की कामना करते हैं, संघर्षों में खटते हुए छांछ भी बिलोते हैं तो नवनीत की चाह, हिलकोरे मारती है. सभ्य कहे जाने वाले समाज में बनावटीपन, विकृता व्याप्त है. विडम्बना है कि मजहब के नाम पर लोगों को दो दलों में विभाजित किया गया है. मुखड़े पर मुखौटे लगे हैं,  कलुषित विचारों से हद्रय के भाव जैसे तीत हो गयें है. आदमी धन से बड़ा हो गया किन्तु कद से छोटा ही रह गया है. सामाजिक विसंगतियों पर  करारा प्रहार करती हुई कवि की कलम विसंगतियों की परते उधेड़ती है. रिश्तों में मधुरता की जगह द्वेष की तपन व्याप्त है, ऐसे में कवि की संवेदना राग –विराग दोनों भावों को कुछ इस प्रकार व्यक्त करती है .
तपन भरा परिवेश, किस तरह /इसको शीत लिखूँ ?
जीवन गध हुआ है/ कहिये कैसे गीत लिखूँ ?
अपना साया भी छलिया /किसको फिर मीत लिखूँ ?
क्रुन्दन को किस तरह भला /सुमधुर संगीत लिखूँ ?
जीवन है उपहार ,इसे / मे कैसे क्रीत लिखूँ ?

रोक रोने परयहाँ हँसना मना है / कहाँ जाएँवर्जना  वर्जना  है 
ठोकरों में दर- ब -दर है भावना / आदमी के सिर चढ़ी है वर्जना.
ठोकरों में दर –बदर है भावना /आदमी के सिर चढ़ी है तर्कना
द्वेष मन में अधर पर शुभकामना है
ख्वाब सभी बुलबुले हुए/ हसरते भी हो गई हवा
पीर पार कर रही हदें / निगोड़ी कहाँ हुई दवा .
छाँछ को भी छ्छा रहे हम/ उनको नवनीत चाहिए.
किस मिजाज की चली हवा /बुरी तरह बंटे हुए लोग
भीतर है भेद भयानक / ऊपर से सटे हुए लोग .
मजहब को मलिन कर रहे / करुणा से कटे हुए लोग
जनहित का जाप कर रहे / थैलियों में बंटे हुए लोग .

बाहर से सब भरा भरा /अंतर्घट रीता का रीता
मुखड़े की जगह मुखौटा है / कद से आदमी छोटा है
सारे रिश्ते ज्यों लाल मिर्च /लाली ऊपर , भीतर तीता
कितना निष्फल ,कितना दारुण /जो समय अभी तक बीता .


सुर्खियाँ ढो रही वहशत / प्रीत खातिर हाशियें हैं
मेमनों के मुखौटे में / घूमते अब भेडिये हैं
गहन है पहचान संकट / हर तरफ बहरूपिये हैं .

६ माँगना न गीत अब गुलाब के /जिंदगी की हर तरफ बबूल
बैठ गए जिसके भी भरोसे / झोंक गया आँखों में धूल.
७ दरमियाँ दो दिलों के बहुत फासला / छू रही है शिखर छल कपट की कला .


 कई बादल सिर्फ गरजते है बरसते नहीं है, कुछ इसी तरह के लोग भी समाज में होते है जो राई का पहाड़ बनाते हैं, किन्तु कर्म – युग धर्मिता का निर्वाह नहीं करते हैं. धर्म और कर्म में युगों सा फासला प्रतीत होता है. ऐसे में स्वस्थ समाज की कामना कैसे की जा सकती है. कवि धर्म अपने मार्ग से विचलित नहीं होता है अपितु समाज को कर्म हेतु प्रेरित करता है. मानव जाति के हित के लिए कवि की चिंता महसूस की जा सकती है, तूफ़ान के भय से हार जाना बुजदिली है. कवि के स्वरों में आव्हान है, जो सदी के सुख की कामना करता है .

         किनारे ही बैठ केवल कुलबुलाना है / कि साथी ,पार जाना है
 रात काली नदी के पार सूरज है चमकता /अग्नि में ही स्नात हो औजार में लोहा बदलता
लू – लपट में गुलमुहर –सा खिलखिलाना है / हमें अब पार जाना है
मछलियों सा पुलिन पर ही छटपटाना है / कि साथी पार जाना है

 २
 चलों, कहीं बैठें, कुछ बात करें/ फुर्सत को मीठी सौगात करें
तितली –भौरा बन नाचें –गायें /चौकन्ने लोगों को चौकायें
एक चमत्कार अकस्मात करें
रुढियों के बंधन झकझोर चलें / कंचन दिन –कस्तूरी रात करें .
नेकियों के दिन बहुरे /बंद हो बदी
यह नई सदी बने /स्नेह की सदी
उत्सवों में अब न कभी / घुले त्रासदी
सुविधाओं की खातिर / बिके न खुदी .
घोर काली रात में, यह / एक दीपक जल रहा है
नींद में है लोग, पर यह / जागता प्रतिपल रहा है .
बस किताबों में लिखा सद्भाव पढ़िए
धर्म भाषा जाती का टकराव डरिये.

प्रेम एक शास्वत काव्यानुभूति है, प्रेम की कोमल अनुभूतियों को, शब्दों का, कोमल जामा पहनाना सरल नहीं होता है. प्रेम निवेदन, प्रणय भाव, प्रकृति सौन्दर्य, मधुमास, ऋतुराज का जादू , कवि का प्रकृति  प्रेम, ह्रदय का बच्चों सा मचलना, मौसमी रंगत की अनुपम छटा, भिन्न भिन्न रंग नवगीतों में अपनी ताजगी, कोमलता का अहसास कराते हुए सीधे ह्रदय में उतरते हैं. प्रकृति और प्रेम की सुगंध, सहज बिम्ब पाठकों को बरबस आकर्षित कर मन को प्रफुल्लित करती हैं .

१ हरसिंगार –टहनी पर चाँदी के फूल खिले / जाने किन सुधियों में औचक यह होंठ हिले
झड़ते हैं फूल खिले /मिट जाता रंग भले / ख़त्म नहीं होते पर खुशबु के सिलसिले

२ चन्दनगंधी हवा चली / मधुमास आ गया
वृन्त वृन्त में खिलने का / विश्वास आ गया 
कुसुमित हो गयी आज / सुधियों की क्यारी
भिगो रही मन, किसकी / आँखों की पिचकारी
स्मृति में परदेशी / कितने पास आ गया
सेमल के फूल लाल लाल /कितने लाल लाल
रंग दिए फागुन ने / मौसम के गाल
घोल रहा अमृत सा कोकिल स्वर / झूम रही बौर लदी डाल
बोल रहे ढोल कहीं तक धिन –तक /झनक रहे झील और ताल  
बतरस में भींग रहा है पनघट / लगाता ठहाके चौपाल


पतझरी मनहूसियत के दिन गए / हर नयन में उग रहे sapne नए
ठूंठ में भी पल्लवन की लालसा / अजब है ऋतुराज का जादू
शूल सहमे –से खिले इतने सुमन /हर तरफ हँसता हुआ है हरापन
उठा रहा है स्वर पिकी का गगन तक / छलकता है अनुराग हर सू .

प्रकृति के सानिध्य में, बरखा का मौसम हर वर्ग को रोमांचित करता है . ह्रदय में जैसे बचपन हिलोलता है, कुछ ऐसा ही कवि का ह्रदय, बच्चों सी कोमल चाहना करता है, कोमल बालपन में डूबी हुई सुधियाँ, शब्दों के माध्यम से कुछ यूँ छलकी हैं.

बादल भैया, बादल भैया – पानी दो
लू लपटों से व्याकुल धरती / इसको छाँव हिमानी दो
मेढक की मायूसी देखो / रिमझिम बरखा पानी दो
गर्जन तर्जन बहुत हो चुका / सुखदा सरस कहानी दो.
प्यासी धरती का आमंत्रण / बादल आये
मगन मयूरी का मधु नर्तन / बादल आये
भीगी भीगी यह पुरवाई /सुधियों ने फिर ली अंगडाई
बाहर यह तन भीग रहा है / भीगे भीतर मन का मधुबन /बादल आये. 
   
           इस संग्रह में गीतों की  भाषा, कथ्य की प्रस्तुति, अनूठे बिम्ब सहजता पाठकों को आकर्षित करते हैं. गीतों में कहीं भी उदासी का भाव नजर  नहीं आता हैं अपितु  गीतों के  सकारात्मक भाव उदासी को मधुरम बना रहें  हैं। नकारात्मकता को कुछ इस तरह सम्प्रेषित किया गया है कि वह विचारों को झकझोरकर, सकारात्मकता का मार्ग दिखाती है।   कवि ने जीवन की हर बारीकियों को संजीगदगी से बयां  है. यह कवि की दूरदर्शिता है कि गीत समय के साथ  चलते हुए समय के गीत प्रतीत होते हैं. जो अमिट  बन बड़े है. संग्रह का  एक -एक गीत  संवेदनाओं के अनुपम मोती हैं।  गीत पाठक को उसकी पृष्ठभमि से जोड़ते हैं, शब्दों का संचय इतना सुन्दर है कि  कहीं भी शब्द जबरन ठूंसे हुए प्रतीत नहीं होते हैं अपित गीतों की लयात्मकता, शिल्प , कसावट , गेयता पाठकों को बांधे रखती है. सहज रसानुभूति से लबरेज गीत स्पंदित करते हैं. शब्दों में आग है जो आशा की मशाल को जलाये रखने में सक्षम है. गीतों में  एक कशिश है, ताजगी है, जो इस संग्रह को विशिष्ट बनाती है . आ. रविन्द्र उपाध्याय जी के गीतों को जितनी बार पढ़ा जाये सहज रसानुभूति स्मृतियों में सहेजती है.  गीत के बारे में  जितना कहें कम प्रतीत  होता है, संग्रह जितने बार भी पढ़ा जाये ताजगी का अहसास देता है. बेहद उत्कृष्ट संग्रह है, आ. रवीन्द्र उपाध्याय जी को श्रेष्ठ संग्रह हेतु कोटि कोटि हार्दिक बधाई व शुभकामनाएँ।  
--- शशि पुरवार   

  


2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (05-08-2019) को "नागपञ्चमी आज भी, श्रद्धा का आधार" (चर्चा अंक- 3418) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

तोड़ती पत्थर वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम तन,...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com