सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Tuesday, November 12, 2019

जोगनी गंध - संवेदनाओं की अनुभूति - पुस्तक समीक्षा

😊😊
जोगनी गंध पर दूसरी समीक्षा आ धरणीधर मणि त्रिपाठी जी ने  की है ,आपका हृदय से धन्यवाद ,आपके स्नेह से अभिभूत हूँ
🙏🙏😊
समीक्षा
----------
("जोगनी गंध")
अभिव्यक्ति के प्रशस्त धरातल पर खडा़ विवेकशील व्यक्ति मानवीय सराकारों, संवेदनाओं एवं अनुभूतियों को जब अपने विशिष्ट अंदाज़ में कलमबद्ध करता है तो प्रस्तुति का एक आलीशान महल सा खडा़ प्रतीत होता है जिसके स्तम्भ, गलियारे, बुर्ज़, दीवारें एवं दालान अपनी-अपनी पहचान और महत्व रेखांकित करते प्रतीत होते हैं। साहित्य जगत में अपनी विशिष्ट स्थान बनाने वाली प्रसिद्ध कवयित्री आदरणीया शशि पुरवार का हाइकु संग्रह "जोगनी गंध"इसका एक उदाहरण है।जो कि न केवल सारगर्भित संदेश अपितु प्रेरणा का संवाहक भी बना प्रतीत होता है।
काँच से छंद
पत्थरों पर मिलते
बिसरे बंद
कितनी गूढ बात कह डाली है मानवीय रिश्ते पर खूबसूरत बिम्बों के द्वारा बेबाक रंग उकेर कर रख दिया है शशि जी ने.
संग्रह के प्रत्येक गुम्फित हाइकु रचना पुष्प विद्या वैषि्ध्य के मनोगाही 5-7-5 पंक्तियों में रची बसी सुगंध से वातावरण को सुवासित प्रबल आकर्षण संजोए हुए है।मानव जीवन प्रकृति पर ही आधारित है संग्रह में प्रकृति का जाज्वल्य रक्तिम रंग बिखरे पडे़ हैं।
अभिव्यक्ति का लक्ष्य जब व्यक्ति के अंतस में जन्म लेता है तो उसके पीछे एक गन्तव्य निहित होता है एक भाव एक उत्कृष्टता निहित होती है, शशि जी के संग्रह में ये बातें स्पष्ट दृष्टिगोचर होती है।यही भाव जब पाठक और श्रोतागण तक पहुँचते हैं तो वे अपने आपको एक-एक पंक्ति के साथ बँधा हुआ पाते हैं।इन हाइकु को देखें:-
सूखे हैं फूल
किताबों में मिलती
प्रेम की धूल
खा़मोश साथ
अवनि अंबर का
प्रेम मिलन
क्षितिज को किस तरह परिभाषित कर दिया कल्पनाशीलता और बिम्ब के द्वारा।
जोगनी बंध
फूलों की घाटी में
शोध प्रबंध
आज सामाजिक ढाँचा इस क़दर बिखरा हुआ है कि अपनों के लिए भी समय नहीं सब व्यर्थ की भागदौड़, उत्कट मीमांसा, लोभ, स्वार्थ के वशीभूत मानव दिनभर प्रयासरत रहता है और क्रमश: जब अपने नीड में वापस आता है तो नितांत नीरवता का सामना करता है, प्रस्तुत हाइकु देखें:-
एकाकीपन
धुँआ धुँआ जलता
दीवानापन
शशि जी का यह संग्रह तमाम विषयों को छूता हुआ पाठक को वाह कर देने पर विवश कर देता है।अल्प शब्दों में काव्य रचना और उसमें भाव बिम्ब डाल पाना निश्चित रूप से दुरूह कार्य है, परंतु आप पूरी पुस्तक पढने के बाद पाएंगे वे इस प्रयास में पूर्णरूपेण सफल हुई हैं।यह पुस्तक न सिर्फ़ हाइकु के विज्ञ लोगों को पसंद आएगी अपितु नवांकुर कवियों को हाइकु सीखने में भी सहायक होगी।आदरणीया शशि जी के लिए मेरी तरफ़ से पुस्तक की अपार सफलता के लिए अनंत शुभकामनाएं ।
धरणीधर मणि त्रिपाठी
कवि, एवं भू पू सैन्याधिकारी

2 comments:

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। कृपया दो शब्द फूल का तोहफा देकर हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार
आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com