सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, October 31, 2012

व्यंजना को लफ्जों से सजाऊं



तुम उदधि मै  सिंधुसुता सी
गहराई में समां जाऊं

तुम साहिल में तरंगिणी सी 
बहती धारा बन  जाऊं 

तुम अम्बर मै धरती बन
युगसंधि में खो जाऊं

तुम शशिधर  मै गंगा सी 
बस शिरोधार्य  हो  जाऊं

तुम आतप  मै छाँह  सी
प्रतिछाया ही  बन जाऊं

तुम दीपक  मै बाती  बन
नूर दे आपही जल जाऊं

तुम रूह हो मेरे जिस्म की
तुम्हारी अंगरक्षी बन जाऊं  

न होगा  तम जीवन में कभी 
चांदनी बनके खिल जाऊं

तुम धड़कन हो मेरे दिल की
स्मृति बन साँसों में बस जाऊं

मौत भी न  छू सकेगी मेरे माही
हर्षित मै  रूखसत  हो जाऊं

न कोई गीत ,न बहर, न  गजल
व्यंजना  को लफ्जों  से सजाऊं 

      -----शशि पुरवार

19 comments:

  1. बहुत सुन्दर......
    एहसासों की अभिव्यक्ति में नियमों का कैसा बंधन....
    वाह..

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन

    ReplyDelete
  4. समर्पण की शानदार अभिव्यक्ति


    सादर

    ReplyDelete
  5. अहसासों की लाजबाब रचना ,,,,वाह बहुत बढ़िया,,,

    RECENT POST LINK...: खता,,,

    ReplyDelete
  6. #
    #
    Huma Kanpuri First class first.
    16 hours ago · Unlike · 2
    #
    श्रीकान्त मिश्र 'कान्त' शशि पुरवार जी ... !

    आज आपको रचना के आलोक में पहचानना भी कठिन हो गया। साथ ही ऊपर भाई हुमा जी की टिप्पणी तो सोने पर सुहागा ...

    बहुत सुन्दर .... ! अप्रतिम ... !! अद्भुत ..!!!...See More
    15 hours ago · Unlike · 2
    #
    Shashi Purwar aapki pratikriya ne urja aur atmik anubhuti se paripurn kar diya lekhni safal hui hamari , aapka sneh bana rahe , .
    13 hours ago · Like · 2
    #
    Rajneesh Sachan shashi ji ...waaqai aapne vyanjana ko alfaaz diye aur khoob diye.
    dil se daad haazir hai.
    12 hours ago · Unlike · 2
    #
    Akhtar Ansar Kidwai Sundar!
    11 hours ago · Unlike · 1
    #
    Madan Mohan Sharma अति सुन्दर.......... अति श्रेष्ठ.............
    7 hours ago via mobile · Unlike · 1
    #
    Madan Mohan Sharma अति सुन्दर.......... अति श्रेष्ठ.............
    7 hours ago via mobile · Unlike · 1
    #
    Seema Agrawal bahut sundar likha hai shashi aapane ......hardik badhaaii
    5 hours ago · Unlike · 1


    Vivek Upadhyay Ahsas आज इस शहृ में पहुंचे हैं तो रुक जाते हैं
    होंगे रुख्सत तो नया एक सफ़र आएगा

    चिलचिलाहट भरी इस धूप में चलते चलते
    जाने कब छांव घनी देता शजर आएगा
    16 hours ago · Unlike · 1........FACEBOOK FRIENDS KI CHAND SMRATIYAAN .

    ReplyDelete
    Replies
    1. SABHI BLOOGAR MITRO KI TAHE DIL SE AABHARI HOON JINHONE RACHNA KO PASAND KIYA AUR ANMOL SHABDO SE PROTSAAHAN BAHDAYA

      Delete
  7. बहुत सुन्दर शब्द चयन के साथ सुन्दर कविता |

    ReplyDelete
  8. आपका लेखन बहुत संजीदा भी है, सौम्य और समपर्ण-शिष्ट भी। कविता ऐसे समृद्ध मानस को अपनी वाणी के रूप में पाकर सार्थक हो जाती है।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही प्यारी रचना शशि जी, हर लफ्ज़ प्यार की पराकाष्ठा ....

    ReplyDelete
  10. कोमल भावनाओं को व्यक्त करती सशक्त पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  11. अति सुन्दर रचना..अच्छी लगी..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर रचना |
    मेरे ब्लॉग मे पधारे और जुड़ें |
    मेरा काव्य-पिटारा

    ReplyDelete
  13. जानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. तुम शशिधर मैं गंगा सी ...


    बहुत सुंदर भावनाएं ...बहुत कुछ कह जाती हैं !
    मंगल कामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  15. शशि जी, बिलकुल नए अंदाज़ में लिखा गया यह गीतमन की गहराई में उतर गया। शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com