Tuesday, March 7, 2017

फागुनी दोहे - उत्सव वाले चंग



१ 

छैल छबीली फागुनी, मन मयूर मकरंद 
ढोल, मँजीरे, दादरा, बजे ह्रदय में छंद।  
 २ 
मौसम ने पाती लिखी, उड़ा गुलाबी रंग 
पात पात फागुन धरे, उत्सव वाले चंग। 
 ३ 
फगुनाहट से भर गई, मस्ती भरी उमंग
रोला ठुमरी दादरा, लगे थिरकने अंग। 
 ४ 
फागुन आयो री सखी, फूलों उडी सुगंध 
बौराया मनवा हँसे, नेह सिक्त अनुबंध। 
 ५ 
मौसम में केसर घुला, मदमाता अनुराग 
मस्ती के दिन चार है, फागुन गाये फाग। 
६ 
फागुन में ऐसा लगे, जैसे बरसी आग 
अंग अंग शीतल करें, खुशबु वाला बाग़.
७ 
हरी भरी सी वाटिका, मन चातक हर्षाय
कोयल कूके पेड़ पर, आम सरस ललचाय। 
८ 
सुबह सबेरे वाटिका, गंधो भरी सराय 
गर्म गर्म चुस्की भरी, पियें मसाला चाय।
 ९ 
होली की अठखेलियाँ, मस्ती भरी उमंग 
पकवानों में चुपके से, चढ़ा भंग का रंग 
 १०  
सरसों फूली खेत में, हल्दी भरा प्रसंग
पुरवाई से संग उडी, दिल की प्रीत पतंग 
 ११
हल्दी के थापे लगे, मन की उडी पतंग। 
सखी सहेली कर रहीं, कनबतियाँ रसवंत।

  -- शशि पुरवार 

मधुरिमा दैनिक भास्कर में प्रकाशित दोहे - 


6 comments:

  1. Sunder rachna....
    Mere blog par aapka swsgat hai...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 09-03-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2603 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. Amazing post keep posting..............and keep visting on https://kahanikikitab.blogspot.in

    ReplyDelete
  4. लाज़वाब और समसामयिक दोहे...होली की हार्दिक शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  5. बहिन शशी पूर्वा आपके फागुनि दोहे बहुत पसंद आये अाने वाली होली पर इन्हे वाटसप पर सैयर करूंगा

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिया दोहे...

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



छैल छबीली

छैल छबीली फागुनी, मन मयूर मकरंद ढोल, मँजीरे, दादरा, बजे ह्रदय में छंद। 1 मौसम ने पाती लिखी, उड़ा गुलाबी रंग पात पात फागुन धरे,...

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com