Thursday, May 30, 2019

गीत के वटवृक्ष









२४ मार्च २०१९ को आदरणीय मधुकर गौड़ जी के निधन की खबर ने स्तब्ध कर दिया। इस वर्ष साहित्य जगत के कई मजबूत स्तंभ व सितारे विलीन हो गए। मधुकर गौड़ जी गीत को समपर्पित ऐसा व्यक्तित्व, जिनका नाम स्वर्णिम अक्षरों में अंकित हुआ है, व जिनका साहित्यिक योगदान युगों युगों तक याद रखा जायेगा, अपनी अंतिम साँस तक निर्विकार भाव से वे साहित्य की सेवा करते रहे।

जब भी गीत की बात होगी तो मधुकर गौड़ का नाम लेना अनिवार्य होगा। मधुकर गौड़ जी साहित्य जगत के ऐसे स्तम्भ थे जिन्होंने विषम परिस्थितियों में भी गीत की मशाल को अकेले अपने दृढ़ संकल्प द्वारा जलाये रखा। अपनी साँस के अंतिम समय तक वे गीत के लिये ही जिये और मजबूती से अपनी मशाल को थामे रहे। उनका व्यक्तित्व व कृतित्व इतना विशाल था कि उनके बारे में लिखना सूरज को दिया दिखाने जैसा है। मेरा संपर्क उनके गत १०-११ वर्ष पहले हुआ था जब उन्होंने गीत पढ़कर खूब लिखने हेतु प्रेरित किया था। उनके द्वारा सम्पादित गीत संकलन ऐसा अप्रतिम सागर था जिसमें अनगिन मोती जड़े थे। जिन्हे पढ़कर मेरी जिज्ञासु सुधा शांत होती रही। जितना उन्हें जाना उतना नतमस्तक हुई।

आदरणीय मधुकर गौड़ ने गत पाँच दशकों से अंतिम साँस तक पूर्ण निष्ठा, निस्वार्थ भाव से स्वयं को साहित्य के लिये समर्पित कर दिया था। गीत विरोधी समय में भी वे बेख़ौफ़ अडिग खड़े थे। एक ऐसा सिपाही जो सिर्फ गीत नहीं अपितु सम्पूर्ण कविता व साहित्य के लिये अकेले अपने दृढ़ संकल्प द्वारा अडिग खड़ा था। गीत उनकी साँस में बसता था। देश भर के गीतकारों को उन्होंने एक मंच पर लाकर खड़ा कर दिया था। सफल संपादक, समीक्षक, सफल गीतकार के साथ वे बेहतरीन सकारात्मक व्यक्तित्व के स्वामी भी थे।

उनके गद्य, सृजन, संवादों व दैनिक कार्यों में भी गीत की करतल धारा बहती थी। जब वे बोलना शुरू करते थे तो जैसे सरस्वती उनकी वाणी से बोलती थी। गीत के प्रति अगाढ़ निष्ठा, प्रेम, समर्पण ही विषम पलों में उनके जीवन का आधार था। गत पाँच दशकों से उन्होंने निरंतर लेखन, संपादन, समीक्षक और संयोजन द्वारा साहित्य की सेवा की है। उन्होंने गीत, गजल, दोहे, मुक्तक सभी विधा में लेखन किया। राजस्थानी भाषा में भी उन्होंने साहित्य सृजन किया। अनगिनत साहित्यिक कृतियाँ, संग्रहों का सृजन व संपादन किया।

वे एक व्यक्ति नहीं अपितु पूर्ण संस्था थे। गीत का ऐसा सिपाही जिसने हारना सीखा ही नहीं था। अदम्य साहस, अकम्पित आस्था, सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज गौड़ जी ने राजिस्थान की माटी से बम्बई तक रचना संसार का स्वर्णिम युग तैयार किया। अहिन्दी भाषी प्रदेश में रहकर उन्होंने नव आयाम स्थापित किये। यह सफर स्वर्णिम अक्षरों में अंकित हो गया। गौड़ जी ने मुंबई में "नगर ज्योति" की स्थापना करके साहित्य का संस्कार शील, सुदृढ़ मंच तैयार किया था। इसके अतिरिक्त उन्होंने "साहित्य भारती", "राजस्थानी पत्रकार लेखक संघ" की भी स्थापना की और सतत ३० वर्षों से छंदसिक रचनाओं व गद्य समवेत पत्रिका " सार्थक "का सफल संपादन व प्रकाशन किया। सार्थक के माध्यम से उन्होंने गीत की अलख को जगाये रखा। बिना किसी सहयोग के वे निरंतर सार्थक का सृजन करते रहे।

सार्थक के माध्यम से उन्होंने गीत को प्रोत्साहित किया। समय के श्रेष्ठ गीतकारों के साथ नव गीतकारों व रचनाकारों को भी उन्होंने आत्मिक स्नेह द्वारा अपने साथ जोड़ा। वे सफल व उम्दा साहित्यकार थे वहीँ उनके संपादन की कसौटी की धार भी उतनी ही तेज थी। देश भर के अनगिनत साहित्यकारों के श्रेष्ठ गीत का काव्य संग्रह करके ऐसा गुलदस्ता तैयार किया तो समय के साथ महकता रहेगा।

उन्होंने अगिनत अनुपम, अमिट, अप्रतिम संकलन सम्पादित व प्रकाशित किये। ६ गीत नवांतर, १० गजल नवांतर, बीसवीं सदी के श्रेष्ठ गीत, १९६२ में इक्कीस हस्ताक्षर समेत अनगिनत रजिस्थानी छंद संग्रह व गीत नवांतर, गजल नवांतर व व्यंग्य नवांतर इत्यादि का संपादन व प्रकाशन किया। उनका सृजन संसार इतना वृहद है कि कुछ पंक्ति में समेटना मुश्किल है। उन्होंने रचनाकार की उम्र नहीं उनके समसामयिक लेखन को महत्व दिया। उनके सम्पादित किये लगभग सभी संग्रह मेरे पास है। संग्रह में एक एक चुनिंदा मोती कहें या हीरा, स्वर्णिम अक्षरों में पन्नों में जड़ा हुआ अंकित है । संग्रह के गीत समय के साथ चलते हुए स्वर्णिम युग का आगाज कर रहें हैं। उनमे शामिल रचनाकार अपने गीतों के साथ अजेय हो गए। आदरणीय मधुकर गौड़ के शब्दों में -
मेरी रजा जनजीवन है, मेरा तीरथ हिंदुस्तान
मेरा प्यार सभी के हक में मेरा ईश्वर है

इंसान गौड़ जी केवल गीत ही नहीं अपितु सम्पूर्ण कविता की लड़ाई लड़ रहे थे। स्पष्टवादी, झुझारू ऊपर से कड़क व हृदय से उतने ही नरम व्यक्तिव के स्वामी थे। उनके ही शब्दों में -
श्रेष्ठ कविता की लड़ाई लड़ रहें है हम सभी
गीत के माथे नवांतर जड़ रहें है हम सभी।

उन्हें गीतों से बेहद प्रेम था या यह कहे कि गीत उनकी साँसों में बसता था। समय के साथ गीत पर अलग अलग स्वर उठे। जैसे जनगीत, प्रगीत, जनवादी गीत, अगीत, नवगीत आदि किन्तु वे गीत की मशाल थामे अनवरत चलते रहे। वे कहते थे - आज गीत को नए परिवर्तनों के समागम में भी नए नाम दिए जाने लगे हैं किन्तु गीत शाश्वत रूप आधार हो। गीतों में अन्तस् की जीवंतता रही है। अवरोध व अंतर्विरोध उनके दृढ़ संकल्प को डिगा नहीं सके। उनके ही शब्दों में -
साहस मुझको श्लोक लिखाते निष्ठा उनको याद दिलाती
संकल्पों की भरी सभा में गरिमा आकर राह दिखाती

उन्होंने अंतिम समय तक गीत को गीत ही माना। वे कहते थे कि- "गीत नवगीत क्या होता है। गीत ने नया चोला पहन लिया है। गीत समय के साथ नए परिवर्तन को अपने में समाहित करता आ रहा है। समय व परिवेश को गीत ने तीव्रता से ग्रहण किया है। गीत तो गीत है। सर्वार्थ पूर्ण और नित्य प्रति, समाज व राष्ट्र का निर्माण गीत है। गीत लय व छंद का महर्षि है।"

खेमेबाजी को उन्होंने उनके काम में अड़ंगा नहीं लगाने दिया। वे किसी विवादमें नहीं पड़े अपितु सरल हृदय से अपनी बात कही। ७० के बाद आये परिवर्तनों पर उन्होंने कहा कि "परिवेश के आधार पर नए अंतर ही हर विधा का नवांतर है।"

संघर्ष व स्वर्णिम अजेय कर्म का पथ आसान नहीं था। उनके भावों में संघर्ष की कहानी साफ़ झलकती है - उनके शब्दों में -
आंधी के तेवर देखें है तूफानों से टकराया हूँ
घनघोर बरसते पानी में, नौका लेकर आया हूँ।

गौड़ जी ने और सार्थक ने नि:स्वार्थ भाव के पक्ष में स्वंय को खड़ा किया था । उन्होंने कई आलेख भी लिखे। गीत के पक्ष में हमेशा अपना मोर्चा संभाले रखा। वे कहते थे कि धरती कर कण कण में गीत बसा है। छंद में रचे-बसे गीत के हस्ताक्षर मधुकर गौड़ जी सदा गीत के लिये चिंतित रहे। वे कहते थे कि गीत सनातन है व सदैव गीत ही रहेगा। गीत ही सत्य है व सत्य ही गीत। गीत तो उनके कण कण में बसा था। इनके ही शब्दों में -
गाते गाते गीत मरूँ मैं, मरते मरते गाऊँ
तन को छोडू भले धरा पर, गीत साथ ले जाऊँ।

गीत के प्रति अगाध निष्ठा प्रेम, व समर्पण ने उन्हें विषम पलों में भी उनके जीवन का आधार दिया। अस्वस्था के बाबजूद उनके सृजन साहित्य की मशाल जलती रही। निधन के कुछ समय पहले तक वे कह रहे थे नवांतर ७ का प्रकाशन करना है जिसमें पुरानी पीढ़ी के साथ नव पीढ़ी के भी गीत शामिल हो। सार्थक का विशेष अंक का प्रकाशन करना है। मौत भी मुझे डरा नही सकती। उनका उत्साह ऊर्जा से लबरेज थे। उनकी जिवटता उनके शब्दों से झलकती थी कि -
मौत भले ही थक जाये पर जीवन का थकना मुश्किल है
साँसो के इस क्रम में जाने किस गलियारे मंजिल है

कुछ समय विषम परिस्थिति व बीमारी से झुझते हुये आक्सिजन मास्क हटाकर काम करने लगते थे। उन्हें मना किया तो कहने लगे - डाक्टर कहते है आराम करो, पर मै तो इसके बिना जी नही सकता। मुझे अभी बहुत कार्य करना है। अपने कष्ट की भनक भी उन्होनें किसी को लगने नही दी। जब भी वाणी के फूल झरे उर्जा से लबरेज थे। उनकी कृष होती काया में भी अपार शक्ति व साहस था। कहतें है कि निष्ठावान व्यक्ति टूट तो सकता है पर झुक नही सकता। वे समय के आगे भी नहीं झुके। उनका एक मुक्तक उनकी जुबानी -
एक आदत सी है मुझमें बांकपन की टूट जाता हूँ मगर झुकता नहीं हूँ
स्नेह वश आँकों अगर, बिन मोल ले लो किंतु सिक्कों के लिये बिकता नही हूँ

उनके समकालीन गीतकारों ने उन्हें अनगिन नामों से नवाजा था- जैसे गीत गंगा का नया भगीरथ, गीत के विजय रथ के अप्रतिम सारथी, गीत के वटवृक्ष, गीत के पर्याय इत्यादि। सत्य भी है एक अजेय योद्धा जिसनें गीत के खातिर जीवन के मोह, सुख व वैभव को तवज्जो नही दी। उनके साहित्सतिक सफर में उनकी धर्मपत्नी व परिजनों के अमूल्य योगदान को सदै‌व नतमस्तक करते थे।
वे एक मशाल बनकर ही तो जलते रहे - उनके ही शब्दों में
जिंदगी का मोल देने के लिये बढता रहा हूँ
अौर लाने भोर जग में, रात बन ढलता रहा हूँ

मधुकर गौड़ के गीत, जीवन व साहित्य जगत में संवेदनाओं की अनुपम अभिव्यक्ति को महत्वपूर्ण बनाते है। समय के साथ चलते हुए गीत जीवट व जिजिषिवा के धनी, उदारता व नम्रता के आदर्श है।आदरणीय गौड़ जी से परिचय के दौरान जितना भी उन्हें जाना उतना ही नतमस्तक होती चली गयी। गीत विधा के प्रति अटूट लगाव के अतिरिक्त उनमें विशिष्ट गुण था। वे जो भी ठान लेते थे उसे विषम परिस्थिति में भी पूर्ण करते थे। गीताम्बरी का प्रकाशन भी उसी दौरान हुआ। कर्मठ दृढ़ निश्चयी व संकल्प वृती गौड़ जी का जन्म १० अक्टूबर १९४२ को रणबांकुरो की बलिदानी राजस्थानी मिट्टी चूरू अंचल में हुआ था। भावुक प्रेमिल हृदय जितना गीतों में बहता था उतने ही पाँव यथार्थ के कठोर धरातल पर रहकर सृजनशील रहे। उन्होंने जो भोगा, महसूसा उसे गीतों में वाणी दी। संपादन कार्य में व्यस्त रहते हुए स्वयं भी सृजनरत रहे।

१९७६ में छपे उनके प्रथम गीत संग्रह "समय धनुष" को नेशनल अकादमी मुंबई ने पुरस्कृत सर्वश्रेष्ठ संग्रह घोषित किया। १९९० में प्रकाशित उनका पाँचवा काव्य संकलन " अंतस की यादें " को महारष्ट्र राज्य साहित्य अकेदमी ने काव्य के सर्वोच्च पुरस्कार संत नामदेव देकर सम्मानित किया। गीत वंश उनका वृहद व बहुचर्चित गीत संग्रह है, उसे भी महाराष्ट्र अकादमी द्वारा सम्मानित किया गया। उन्हें अनगिनत सम्मानों से नवाजा गया जिसमे सर प्रतिभा सिंह पाटिल द्वारा श्रेष्ठ साहित्यकार सम्मान, श्रेष्ठ साहित्य सेवा सम्मान, मानद श्री की उपाधि, निराला सम्मान समेत अनगिनत दर्जनों सम्मान शामिल है।

उनकी प्रमुख कृतियाँ हैं- मधुकर गौड़ का रचना संसार गीत और गीत-१ (१९६८), समय के धनुष (१९७६), गुलाब (मुक्तक व रुबाई - १९८६), अश्वों पर (बहु प्रशंसित गद्य कवितायेँ १९९०), अंधकार में प्रकाश (गद्य संकलन), अंतस की यादें (१९९० काव्य संकलन), पहरुए गीतों के (गीत संग्रह - १९९५), गीत वंश (गीत संग्रह १९९७), देश की पुकार (राष्ट्रिय गीत), साथ चलते हुए (गजल दोहे म मुक्तक २००१), बावरी (आत्मिक प्रेम कथा दोहे रुबाई २००२), श्रीरामरस (दोहा संकलन २००५), साँस साँस में गीत (गीत संग्रह२००७), गीत गंगा का नया भगीरथ, चुप न रहो (गीत संग्रह २०१५), गीताम्बरी (२०१६) समेत कई राजस्थानी संग्रह भी शामिल है।

दर्जनों सम्पादित गीत गजल संग्रह व नवांतर उनके रचना संसार को समेटना जैसे सागर को गागर में भरना है। उनके गीतों में जिंदगी के अनेक बिम्ब व स्वर समाहित है। उनकी रचनाएँ जीवन के विविध रंगो को समेटे हुए इंद्रधनुषी आकाश बनाती है। कर्मठता उनमे रंग भरती है। सतत बहते जाना और इतिहास बनाना उनकी जीवटता की पहचान थी। उनके शब्दों में -
आदमी ही जब लहु के साथ चलता है
दोस्त मेरे तब नया इतिहास बनता है

उनकी बहु चर्चित कृति बावरी का उल्लेख भी आवश्यक है। मधुकर गौड़ जी की कृति बावरी जो आत्मिक प्रेम काव्य की अभिव्यक्ति है जिसमे १५२ द्वोपदियों में प्रेम की पीर व अंतस की गहराई से निःसृत प्रेम - दीवानी मीरा की अनुभूति की गूंज है। कवि के शब्दों में यह प्रेम के श्लोक है, जिसने साँस साँस में उसे जिया है। प्रेम की सनातन अभिव्यक्ति है। एक बानगी देखें -
मै माटी की पूतली, तू धड़कन तू जान
मै पूजा तू मूर्ति, मै काया तू प्राण
झर झर आँसूं की झड़ी, मै भीगी दिन रात
ऐसी भीगी मेह में, हो गयी खुद बरसात।

बहुत कम लोग होते हैं जो अपने मूल्यों, आदर्शों के साथ अवांछित अवरोधों को चुनौती देते हुए निरंतर आगे बढ़ते रहते हैं। कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनका व्यक्तित्व वंदनीय व अनुकरणीय होता है। साधन, सुविधा और सहयोग के अभाव में भी उन्होंने अविचल अविरल बहते हुए अपने धेय्य को पूर्ण किया। उनका व्यक्तित्व व कृतित्व हमेशा नव रचनाकारों व गीतकारों को प्रेरणा, दृढ़संकल्प व ऊर्जा की संजीवनी प्रदान करता रहेगा।

एक गुरु, पिता, मित्र बनकर उनका स्नेह आशीष मुझे भी प्राप्त हुआ। उनके सृजन साहित्य के सागर में समाहित रचनाओं के अनमोल मोती हमें सदैव मार्गदर्शन प्रदान करते रहेंगे। उनके गीत, गजल, दोहे व उनके शब्द हमें सदैव सुवासित करते रहेंगे। वे अपने वृहद साहित्य व शब्दों से माध्यम से सदैव हमारे बीच सुवासित रहेंगे। उनका ही एक बंद उन्हें अर्पित करती हूँ

जीते रहे अब तलक दिलदार की तरह
पढ़ते रहे हैं लोग हमें अखवार की तरह
सब साथ हो गए तो रहे सारी जिंदगी
आकर के हम गए नहीं बहार की तरह।

गीत के सशक्त हस्ताक्षरआदरणीय मधुकर गौड़ सर को मेरा कोटि कोटि नमन व विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करती हूँ।
शशि पुरवार

4 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (01 -06-2019) को "तम्बाकू दो छोड़" (चर्चा अंक- 3353) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।

    आप भी सादर आमंत्रित है

    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 31/05/2019 की बुलेटिन, " ३१ मई - विश्व तम्बाकू निषेध दिवस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर आलेख।

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



साल नूतन

  नव उमंगों को सजाने  आस के उम्मीद के फिर  बन रहें हैं नव ठिकाने भोर की पहली किरण भी  आस मन में है जगाती एक कतरा धूप भी, लिखने  लगी नित एक प...

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com