सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, October 8, 2011

निरह सी आँखे ,


                
                                        निरह  सी आँखे ,
                                          देख  रही  है 
                                         ख्वाब  सुनहरे
                                         सपनो  के.

                                        सफ़र  है कठिन ,
                                         होसले  बुलंद ,
                                         पल-पल  नयी
                                         तलाश  में
                                         गुजरते  क्षण .
                                  
                                      ठिठुरती  रात  में
                                       सिहरता  तन
                                       नीलगगन  तले
                                       तक  रहे  नयन .

                                        रात  बीती ,
                                       नयी  सुबह  ने
                                        ली  अंगड़ाई .
                                        दिल  में  एक
                                        आस  आई
                                       काश  चार  दिवारी  में 
                                        बंद  होते  हम
                                       : - शशि पुरवार

                     

4 comments:

  1. neele aakaash ko khidkee se dekhte ham

    sundar shabd se rachaa hai aapne
    sneh aur aashirvaad ke saath

    ReplyDelete
  2. The second and last paragraph are so beautifully crafted. Few words take my heart away...And, the title is so profound...
    Saru

    ReplyDelete
  3. bahut sundar kavita....
    badhayi
    mere blog se judne aur padhne ke liye is link pe click karain
    http://dilkikashmakash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. naa jane kyon dekh liya SUNHARE SAPNO KA SAPNA
    POORA HEE NAHIN PEECHHE PADA HATNA

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com