Wednesday, October 5, 2011

क्षणिकाएं .......

                                               दशहरा 
                                              रावण के  संग 
                                              बुराई- पाप  का
                                              अंत  किया.
                                             
                                             -----------------

                                              दीपावली 
                                            जगमग रोशनी संग 
                                              अंधकार 
                                             दूर  दिया .

                                           ---------------------

                                            प्यार प्रतीक है 
                                             दिल का 
                                            विश्वास की
                                             ज्योत से 
                                          प्रज्वलित  किया .

                                          ------------------------

                                          जीवन एक समंदर 
                                           आशाओं  की 
                                            नैया संग 
                                         हर  कठिनाई को 
                                          पार किया .

                                          :- शशि पुरवार


आप   को  व  आपके  परिवार  को  दशहरे  की  हार्दिक शुभकामनाये .
आपके  जीवन  में  खुशियों  की  बौछार  हो  यही  हमारी  कामना  है .
:-  शशि पुरवार

6 comments:

  1. आपने अपनी कलम से सुन्दर क्षणिकाएं लिख कर दशहरे को दीवाली बना दिया

    ReplyDelete
  2. Bahut badiya, aapko bhi bahut bahut subhkamnaye!
    Saru

    ReplyDelete
  3. सभी क्षणिकाएं आशा का संचार लिए .. लाजवाब हैं ...
    विजय दशमी की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  4. @rajendra ji ,
    saru
    navsaa ji
    sabhi ka aapka bahut - bahut shukryiya , aapke shabd mere liye anmol tohafa hai . :) :)

    ReplyDelete
  5. शशि जी आपके द्वारा रचित क्षणिकाएं बेहद सुन्दर बन पड़ी हैं बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

  तोड़ती पत्थर  वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम त...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com