Sunday, October 2, 2011

"सच का आइना " .

                                          महंगाई   की  ,
                                          मार  तो  देखो 
                                      और  इन   नेताओ  की  ,
                                          चाल  तो  देखो  .


                                        कान  तो  बंद  है ,
                                        खुली  है  आँखे
                                  फिर  भी नजर  नहीं  आ  रहा ,
                                     इन्हें  जीवन  के कडवे ,
                                      "सच  का   आइना  " .

                                    इसी तरह के  झंझावत   में  ,
                                         गुजर  रही  है,
                                      कई  जिन्दगानिया.
                                  
                                         वस्त्र   नहीं  है,
                                       तन   ढकने  को ,
                                         छत   नहीं  है  ,
                                     सिर  छुपाने  को, और
                                     अन्न  नहीं  है  खाने  को.


                                    फिर  भी  किसी  तरह ,
                                        सड़क  किनारे  
                                        जी  रही  है  ,
                                     ये   मासूम  जवानिया .

                                       महंगाई का दानव  ,
                                          छल रहा ,
                                      काला धन भर रहा,
                                        कोई तो , इनका 
                                         संहार करो . 

                                      भ्रष्टाचार  रुपी इस 
                                          रावन का ,
                                          मिल कर 
                                          दहन  करो .
                                          :-  शशि पुरवार
 
 यदि हर इन्सान प्रण ले कि भ्रष्टाचार का दहन करना है , तो ये दानव स्वतः ही दम तोड़ देगा ......!   
                  

   

3 comments:

  1. madam ji.....Badhiya likha hai aapne......hope log isase sahmat honge aur Bhrastachar k Raavan ko Jaroor dahan karenge......May not be on Vijayadashmi but definately one day they(people) will do this.

    ReplyDelete
  2. Shashiji Aap ne sach ka aina dikha diya hai aur bahot khubi se use dikhaya hai. Lekin in netao ki chamdi itni moti hai ki unhe aina to kya khud ka chehra tak malum nahi. Aise ravano ko ekjut ho kar hi jalaya ja sakta hai. Bas abhi to ek yahi kam baki rah gaya hai aisi soch leke nikalna hi jaruri hai.

    ReplyDelete
  3. शशि जी सप्रेम अभिवादन ...
    सुन्दर ब्लॉग
    सुन्दर विचार
    हार्दिक बधाई ...
    मेरे ब्लॉग कोसीर ...ग्रामीण मित्र में आपका स्वागत है ..
    --

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

  तोड़ती पत्थर  वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम त...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com