Tuesday, October 18, 2011

अमावस का तम

                                         
                                            दीपावली का त्यौहार 
                                            जले  लड़ियाँ  हजार 

                                            अमावस  का  तम
                                            लड़ा  रौशनी  संग.

                                        गोधुली साँझ की बेला में,
                                          लक्ष्मी  संग  गणेश
                                            का  आगमन.


                                          चहुँ  ओर  छाए
                                         टिमटिमाते  पंती,
                                         पटाखों  का  गुंजन
                                        जग  हो  जाये रौशन.

                                         रॉकेट संग उमंगें
                                         करे  नभ  से रीत

                                        पैगाम  दे  मुकाम  का
                                       प्रयत्न  संग  जोड़ो  प्रीत.
                                                  :-  शशि पुरवार

9 comments:

  1. बहुत ही सुंदर कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  2. deepawali par
    shabdon kee aatishbaazee
    karee shashee ne

    ReplyDelete
  3. दीपावली भी तो प्रीत जोड़ती है ... मिलन का त्य्हार है ...
    बधाई इस रचना पे ...

    ReplyDelete
  4. बढ़िया दीप गीत ..
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  5. रॉकेट संग उमंगें
    करे नभ से रीत
    पैगाम दे मुकाम का
    प्रयत्न संग जोड़ो प्रीत.

    बहुत सुंदर गीत !!

    ReplyDelete
  6. सुंदर रचना।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. हरेक पंक्ति बहुत मर्मस्पर्शी है। कविता अच्छी लगी ।

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



तोड़ती पत्थर

  तोड़ती पत्थर  वह तोड़ती पत्थर; देखा मैंने उसे इलाहाबाद के पथ पर- वह तोड़ती पत्थर। कोई न छायादार पेड़ वह जिसके तले बैठी हुई स्वीकार; श्याम त...

https://sapne-shashi.blogspot.com/

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com