सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Wednesday, October 12, 2011

क्यूँ एक आस..............!

                                    उसके खोने का  है  गम 
                                     जो न था कभी अपना ,
                                   इस बात का है मुझे एहसास 
                                   आज दिल फिर क्यूँ उदास ...?

                                     इसी काबिल  था यह शायद
                                    रह जाये  अकेले  सफ़र में,
                                    अब साया भी न मेरे पास 
                                     दिल में फिर भी बची 
                                          क्यूँ एक आस.

                               चंचल मन , तर्क पूर्ण बुद्दि के बीच
                               हो रहे भयंकर इस अंतरद्वन्द  में ,
                               किसका अनुकरण करूं में 
                                 अंतत: हार निश्चित है ,
                                     क्यूँ साथ है ....?

                                  उलझ गयी  हूँ इस सोच में 
                                  सोचती  हूँ कुछ और सोचूँ ,
                                  एक नयी सोच की तलाश है 
                                    आज दिल फिर उदास है .

                                    उसके खोने का .............!
                                                   :-  शशि पुरवार 


17 comments:

  1. बहुत ही खूबसूरत कविता।
    ------
    कल 13/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. First two paragraphs are beautifully worded, the rhyming is so nicely done. It's a perfect poem. Love it!!!

    Saru

    ReplyDelete
  3. उलझ गयी हूँ इस सोच में
    सोचती हूँ कुछ और सोचूँ ,
    एक नयी सोच की तलाश है
    आज दिल फिर उदास है .

    बहुत खूब ....
    शुभकामनायें आपके लिए !

    ReplyDelete
  4. वाह ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  5. saru thank u so much :)

    yeshvant ji ,
    sagar ji
    satish ji
    sada ji

    आप सभी का बहुत - बहुत धन्यवाद .आप यहाँ आये ,और रचना पर आपकी समीक्षा दी . स्वागत है

    ReplyDelete
  6. thank u so much mradula ji , aapka swagat hai

    ReplyDelete
  7. उसके खोने का है गम
    जो न था कभी अपना ,
    इस बात का है मुझे एहसास
    आज दिल फिर क्यूँ उदास ...?

    बहुत सुन्दर ....

    ReplyDelete
  8. शब्दों को एक खूबसूरत कविता में पिरोया शशि जी हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. सुन्दर कविता...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर और सार्थक सृजन बहुत -बहुत बधाई और करवा चौथ की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  11. आदरणीय शशि पुरवार जी
    मेरे ब्लॉग पर आने और टिप्पणी के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद ...आशा है आपका यह प्रोत्साहन यूँ ही मिलता रहेगा ....आपकी रचना काबिल - ए - तारीफ है ....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  12. आदरणीय शशि पुरवार जी
    बहुत ही खूबसूरत कविता।

    ReplyDelete
  13. जरूरी कार्यो के कारण करीब 15 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com