सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, October 18, 2011

अमावस का तम

                                         
                                            दीपावली का त्यौहार 
                                            जले  लड़ियाँ  हजार 

                                            अमावस  का  तम
                                            लड़ा  रौशनी  संग.

                                        गोधुली साँझ की बेला में,
                                          लक्ष्मी  संग  गणेश
                                            का  आगमन.


                                          चहुँ  ओर  छाए
                                         टिमटिमाते  पंती,
                                         पटाखों  का  गुंजन
                                        जग  हो  जाये रौशन.

                                         रॉकेट संग उमंगें
                                         करे  नभ  से रीत

                                        पैगाम  दे  मुकाम  का
                                       प्रयत्न  संग  जोड़ो  प्रीत.
                                                  :-  शशि पुरवार

9 comments:

  1. बहुत ही सुंदर कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  2. दीपावली भी तो प्रीत जोड़ती है ... मिलन का त्य्हार है ...
    बधाई इस रचना पे ...

    ReplyDelete
  3. बढ़िया दीप गीत ..
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  4. रॉकेट संग उमंगें
    करे नभ से रीत
    पैगाम दे मुकाम का
    प्रयत्न संग जोड़ो प्रीत.

    बहुत सुंदर गीत !!

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. हरेक पंक्ति बहुत मर्मस्पर्शी है। कविता अच्छी लगी ।

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com