सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, October 24, 2011

हयुक संग दीपावली पर्व ........!!!!!!

                 १)             हयुक  संग 
                             दीपावली  पर्व  की 
                               फुलझड़ियाँ .

                 २)            त्योहारों  की 
                             रंग - बिरंगी  छठा 
                               दुकानों  पर .

                  ३)              दीपावली  में 
                              हर्ष , उल्लास  खास 
                                मुबारकबाद .

                  ४ )          मिठाईयों  में 
                               डिजाइनर  सेप
                               सुगर  फ्री  भी .

                  ५)            उपहार  है 
                             जीताजागता  रूप 
                              भावनाओ  का .

                  ६)           कंदील  संग 
                              मन  का  प्रकाश 
                                प्रज्वलित .

                  ७)          पटाखों  संग 
                             असावधानी घात
                                 ऐहतिहात .

                  ८)            पटाखों  से 
                              ध्वनी , वायुमंडल 
                                प्रदूषण  भी .

                  ९)          मिलावट  भी 
                              बुराई  का  प्रतीक
                                रावण  आज  .

                १०)            प्रियजन  की 
                             अनमोल  सौगात 
                               शुभाशीर्वाद  .

                ११)              रिश्तो में 
                             दिलों की है मिठास 
                                 बेहद खास .

                 १२)             मित्रगण भी 
                                 है  एक  परिवार 
                                   प्रियजन  संग .
                                       :- शशि पुरवार

 सभी मित्रो को दीपावली की हार्दिक बधाई , व्यस्तता के कारण समय नहीं दे पा रही हूँ  जल्दी ही आप सभी के ब्लॉग पर आउंगी , तब तक के लिए छमा चाहती हूँ . 
आप सभी की दीपावली मंगलमय हो :-- शशि पुरवार

6 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन हाइकु!

    दीपावली की आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  3. Bahut sundar...Aapko bhi diwali ki subhkamnaye:)

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  5. मजा आ गया दीपावली कि हाइकु पढ़कर बधाई

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com