सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, September 3, 2012

जीवन के रंग ...!





यह जीवन
है गहरा गागर
सुख औ दुःख
गाड़ी के दो पहिये
धूप औ छाँव
सुख के दिन चार
आँख के आँसू
छलते हरबार
जो पाँव तले 
खिसकती धरती
अधूरी प्यास
पहाड़ -सा ह्रदय
शोक -विषाद
अत्यंत मंथर हैं
बोझिल पल 
वक़्त की रेतघडी
धीमा है पल
संकल्पों का संघर्ष
फौलादी जंग
आगमन -प्रस्थान
अभिन्न अंग
मुट्ठी से फिसलते
सुखद पल
वक़्त का पग -फेरा
बहता जल 
पतझर -सा झरे
दुर्गम पथ
बदलता मौसम
भोर के  पल
सुनहरी किरण
परिवर्तन
मोहजाल से मुक्त
वर्तमान के
खुशहाल लम्हों का
करो  स्वागत
छिटकी है मुस्कान
जीवन में उदित
नया है रास्ता
खुशियों की तलाश
सुनहरी सौगात .

-------------------

हाइकु ---
1 चांदनी रात
 नयना बहे नीर
  दुःख की पीर .

2 रिश्तो में मिला
पल पल छलावा
  मन का  दर्द .
3 वक़्त के साथ
भर जाते  है जख्म
 रिसते  घाव .
4 सुख खातिर
करे सारे जतन
कठिन तप
5 पतझर से
झरते है नयन
प्रेम अगन
6
रिश्तो की लड़ी
बिताये हुए पल
है जमा पूंजी .
7
अश्क आँखों के
सुख गए है अब
रीता झरना
8 पीर तन की
अब सही न जाती
वृद्धा आश्रम
9 आँखों में देखा
छलकता पैमाना
सुखसागर
10  खामोश रात्र
सन्नाटे में बिखरी
तेज चीत्कार
11 सुख के सब
होते है संगी साथी
स्वार्थी जहान .
12 तीखे संवाद
दबी है सिसकार
मन की हूक .
13
नन्हे कदम
मोहिनी म्रदु हास्य
खिला अंगना .
15 यह जीवन
आत्मा होती अमर
चंचल मन .
16 तेरे आने की
हवा भी दे सूचना
धडके दिल .
17
सूना अंगना
महका गुलशन
खिले जो फूल  .
18 खिली मुस्कान
 मासूम बचपन
  मन मोहन .
 ----शशि पुरवार 



15 comments:

  1. जीवन के दो पहलू होते ,धूप और है छाँव
    सुख-दुख है जीवन मरण,ये जीवन के ठाँव,,,,

    RECENT POST-परिकल्पना सम्मान समारोह की झलकियाँ,

    ReplyDelete
  2. bahut sundar abhivyakti ...aur behtareen haiku bhi ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. dheerendra ji , anupama ji thank you so much , ypur words are precious ............:))

      Delete
  3. जीवन के रंग
    और हाईकु दोनों ही बहुत बेहतरीन है...
    शानदार...
    :-)

    ReplyDelete
  4. जीवन के सुखद रंग....और मनभावन हायेकु....
    बहुत सुन्दर पोस्ट...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 4/9/12 को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.inपर की जायेगी|

    ReplyDelete
  6. हर ओर एक मुस्कान छटके...

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब लिखा है अपने कविता और हाइकू सभी एक से एक लाजवाब |नमस्ते

    ReplyDelete
  8. sabhi mitro ka hardik abhar ..anmol shabdo se protsaahan karne ke liye "))

    ReplyDelete
  9. जीवन के अनेकों रंगों को एक माला की तरह रचना में पिरो दिया ...
    हाइकू भी कमाल के हैं सभी ...

    ReplyDelete
  10. जीवन के विभिन्न रूपों का सटीक चित्रण...अंतस को छू जाने वाली पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  11. मैं अब तक सपनों की घाटियों के कई रंगों से मिल आई ... कहीं फूल, कहीं दर्द , कहीं प्रश्न , कहीं तलाश ......... सम्पूर्ण ब्लॉग विशिष्ट है

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com