सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Sunday, July 21, 2013

उड़ गयी फिर नींदे ....!

1 
था दुःख को तो जलना
अब सुख की खातिर 
है राहो पर चलना ।
2
रिमझिम बदरा आए
पुलकित है धरती
हिय मचल मचल जाए । . 
3
है  मन जग का मैला 
बेटी को मारे 
पातक दर-दर फैला ।
4
इन कलियों का खिलना 
सतरंगी सपने 
मन पाखी- सा मिलना ।
5
थी जीने की आशा 
 थाम कलम मैंने
की है दूर निराशा ।
6
अब काहे का खोना
बीते ना रैना 
घर खुशियों का कोना 
7
भोर सुहानी  आई
आशा का सूरज
मन के अँगना लाई।
8
पाखी बन उड़ जाऊँ 
संग तुम्हारे मैं
गुलशन को महकाऊँ  

-------- शशि पुरवार









10 comments:

  1. पाखी बन उड़ जाऊँ
    संग तुम्हारे मैं
    गुलशन को महकाऊँ

    ReplyDelete
  2. थी जीने की आशा
    थाम कलम मैंने
    की है दूर निराशा ..

    बहुत खूब ... सभी पल लाजवाब लिखे हैं ...

    ReplyDelete
  3. Aapki sabhi rachnayen aashaka sandesh deteen hain....eeshwar kare aap hamesha aisee hee banee rahen!

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचना... मेरी नयी पोस्ट के लिये पधारे... मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    अच्छा लिखा है आपने!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही लाजवाब रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com