सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, July 27, 2013

सुख की धारा


 सुख की धारा
रेत के पन्नो पर
पवन लिखे .


 दुःख की धारा
अंकित पन्नो पर
डूबी जल में - 
-

मन पाखी सा
चंचल ये मौसम
सावन आया

रात चांदनी
उतरी मधुबन
पिय के संग .
4
 दिल का दिया
यादों से जगमग
ख्वाब चुनाई .
5
तन्हाईयों में
सर्द यह मौसम
शूल सा चुभा


------शशि पुरवार
१९ जुलाई १३

15 comments:

  1. bahut khoob mala ke motiyon jaise ....

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत मन भवन हाइकु ....!!
    बहुत अच्छे लगे ...!!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर हाइकू,

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन



    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब ...
    मन भावन हैं सभी हाइकू ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर हाइकू.....
    बेहतरीन.....
    :-)

    ReplyDelete
  7. sabhi mitro ka tahe dil se abhaar aap sabhi ne apni anmol tipni se sneh ki barish ki hai .

    ReplyDelete
  8. दिल का दिया
    यादों से जगमग
    ख्वाब चुनाई .
    bahut khoob
    rachana

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com