सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, July 12, 2013

अभी कुछ और करिश्मे गजल के देखते है






चलो नज़ारे यहाँ आजकल के देखते है
अजीब लोग है कितने ये चल के देखते है

गली गली में यहाँ पाप कितना है फैला
खुदा के नाम से ईमान छल के देखते है

ये लोग कितने  गिरे आबरू से जो खेले
झुकी हुई ये निगाहों को मल के देखते है

ये जात पात के मंजर तो कब जहाँ से मिटे  
बनावटी ये जहाँ से निकल के देखते है

कलम कहे कि जिधर प्यार का जहाँ हो ,चलो

अभी कुछ और करिश्मे गजल के देखते है .
---- शशि पुरवार

14 comments:

  1. वाह, बहुत बहती गज़ल..

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन रुस्तम ए हिन्द स्व ॰ दारा सिंह जी की पहली बरसी - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete

  3. ये जात पात के मंजर तो कब जहाँ से मिटे
    बनावटी ये जहाँ से निकल के देखते है

    कलम कहे कि जिधर प्यार का जहाँ हो ,चलो
    अभी कुछ और करिश्मे गजल के देखते है .



    बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको . कभी यहाँ भी पधारें ,कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
  4. ये जात पात के मंजर तो कब जहाँ से मिटे
    बनावटी ये जहाँ से निकल के देखते है

    वाह खूबसूरत गजल, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. वाह ! वाह !!! बहुत सुंदर बेहतरीन गजल ,क्या बात है,बधाई शशि जी ,,,

    RECENT POST ....: नीयत बदल गई.

    ReplyDelete

  6. चलो नज़ारे यहाँ आजकल के देखते है
    अजीब लोग है कितने चल के देखते है
    Ye shuruati ashar bahut hee sundar hain....pooree gazal bahut pasand aayi hai...

    ReplyDelete
  7. अजीब लोग है कितने ये चल के देखते हैँ " होना चाहिये ऊपर शायद 'ये" लिखना छूट गया ।

    ReplyDelete
  8. ये लोग कितने गिरे आबरू से जो खेले
    झुकी हुई ये निगाहों को मल के देखते है

    बहुत सुंदर गजल, शुभकामनाये

    यहाँ भी पधारे ,


    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_909.html

    ReplyDelete
  9. sabhi mitro ka tahe dil se dhanyavad jinhone apni anmol tipni se rachna ko sahara .

    ReplyDelete
  10. वाह ... बेहतरीन गज़ल ... अंतिम शेर कमाल का है ...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर ग़ज़ल लिखी है आपने!
    चुन-चुनकर शब्दों से सटीक प्रहार किया है इस नज़्म में!

    ReplyDelete
  12. बेहद लाजवाब ग़ज़ल की प्रस्तुति । दिल को छू गयी । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com