सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Friday, August 2, 2013

जीवन के ताप सहती

जीवन के ताप सहती
कैसे असुरी

जलती है धूप नित
सांझ सवेरे
मधुवन में क्षुद्रता के
मेघ घनेरे .

रातों में चाँद देखे
पाँव इंजुरी .

भाल पर अंकित है
किंचित रेखा
काया को घिसते यहाँ
किसने देखा

नटनी सी घूम रही
देखो लजुरी .

मुखड़े पर शोभित है
मोहिनी मुस्कान
वाणी में फूल झरे
देह बेइमान

हौले से छोर भरे
कैसे अंजुरी .

शशि पुरवार

13 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना .....बधाई

    ReplyDelete
  3. प्यारी सी अंजुरी
    खुबसूरत रचना :)

    ReplyDelete
  4. सुन्दर - सार्थक अभिव्यक्ति .शुभकामनायें .
    हम हिंदी चिट्ठाकार हैं
    भारतीय नारी

    ReplyDelete
  5. गहन अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  6. भाल पर अंकित है
    किंचित रेखा
    काया को घिसते यहाँ
    किसने देखा

    नटनी सी घूम रही
    देखो लजुरी .
    Behad sundar!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  8. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के ब्लॉग बुलेटिन - इंतज़ार उसका मुझे पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete
  9. Man mnthan ko ujagar karne me safal rachna .

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com