सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, October 29, 2011

ख़ामोशी कुछ कहती है ......




                                              ख़ामोशी , 
                                            बड़ी  अदा  से 
                                           पल - पल  कुछ ,
                                              कहती  है .


                                         बर्फीली  वादियों   में  
                                          सन्नाटे   को  चीरती ,
                                              ख़ामोशी .


                                      गुलशन  की  वादियों  में ,
                                            फूलो  संग ,
                                            लिपटी  हुई 
                                            ख़ामोशी .


                                        मधुर   बेला   में ,
                                            गुदगुदाती 
                                             ख़ामोशी .


                                          पीड़ा   में  ,
                                      चीत्कार  उठती  है 
                                           ख़ामोशी .


                                            शब्द गुम 
                                           मौन  मुखर  ,
                                             ऐसे  में ,
                                       ख़ामोशी  को  भी 
                                           खूब  सताती
                                             ख़ामोशी .


                                          चंचल   चितवन ,
                                          या  आहत  मन 
                                             संग  खूब  
                                             बोलती  है 
                                              ख़ामोशी .

                                         खामोश नजरो से
                                            हाले दिल
                                           बयां  कर
                                      अदा  से  इठलाती  है
                                            ख़ामोशी .

                                                 :-  शशि  पुरवार

                           मौन  भी  मुखर  होते  है , ख़ामोशी  भी  बोलती है , हर  समय  शब्दों  का  ताना - बाना   नहीं  होता , परन्तु  कई  बार  ऐसा  होता  है  कि  शब्द  गुम  हो  जाते  है  और  ख़ामोशी  का  आलम  छा  जाता  है . मौन  को  पढना  और  ख़ामोशी  को  समझना  भी  एक  कला  है ........!



41 comments:

  1. शशि पुरवार जी ..!

    शब्द एक शोर है तमाशा है ..
    भावना के सिन्धु में बताशा है
    मन की बात होठों से मत कहो
    मौन भावना की यही भाषा है

    मुझे नहीं पता किसकी रचना है किन्तु अपने स्वर्गीय पिताजी के होठों पर प्राय:मुखरित इन शब्दों को आपकी रचन के लिये सटीक समझता हूं। खामोशी पर संभवत: यही खामोश स्वर मेरी टिप्पणी है - बधाई सुंदर रचना के लिये

    ReplyDelete
  2. sri kant mishra ji aapka shukriya . aapne yahan aaker samiksha di . anubhuti ke mitro ko yahan dekhna sukhad anubhuti hai .dhanyavad

    ReplyDelete
  3. बहुत ही खूबसूरत कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  4. जितने खूबसूरत शब्द हैं उनते ही उन्नत भावों से सजाया है. शब्द नहीं हैं मेरे पास बयान करने के लिए

    ReplyDelete
  5. yashvant ji , sanjay ji aapka bahut - bahut dhanyavad ....!

    ReplyDelete
  6. Nice one Shashi ji...Silence speaks louder than thousands words...
    With best wishes of Festive season..

    ReplyDelete
  7. KHAAMOSHEE ,
    KHAAMOSHEE SE SAB KAHTEE HAI
    JEEVAN KE HAR ROOP KO UJGAAR KARTEE HAI
    BAHUT KHOOB SOORAT SHABS AUR VICHAAR

    ReplyDelete
  8. शब्द गुम
    मौन मुखर ,
    ऐसे में ,
    ख़ामोशी को भी
    खूब सताती
    ख़ामोशी .

    .....बहुत ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति..सच है खामोशी की भी अपनी ज़ुबान होती है...बधाई

    ReplyDelete
  9. खामोशी वार्तालाप की महान कला है,बहुत ही सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  10. बहुत ही खूबसूरत कविता शशि जी आपको बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएं |मोब० न० 09415898913

    ReplyDelete
  11. khamoshi ki zuban ban kr aapne shdon ko khush kar diya hai sunder kavita .

    ReplyDelete
  12. कई बार तो खामोशी वाणी से भी ज्यादा मुखर होती है।
    मननीय कविता।

    ReplyDelete
  13. शशि जी आपकी कविता बहुत ही खूबसूरत भाव के साथ लिखी गयी है । आपके पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । धन्यवाद । आपको बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  14. rahul ji ,
    rajendra ji
    jai krishn rai ji ,
    indu ji
    rajesh kumari ji ,
    mahendra ji
    prem sarovar ji ..... आप सभी का बहुत -बहुत धन्यवाद , आप सभी की समीक्षा मेरे लिए अनमोल है . आप सभी ने अपना अनमोल समय दिया . धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. mon me ful bhi hai
    mon me shul bhi hai ...

    bhut sunder ..shashi......

    ReplyDelete
  16. बहुत ही खामोशी और सुंदर शब्दों के साथ सजी रचना,बेमिशाल पोस्ट....

    ReplyDelete
  17. Very nice write up on khamoshi,,,i had also wrote on the theme silence,,
    http://ruchichunk.blogspot.com/2011/07/there-are-times-it-seems-easy-to-die.html

    ReplyDelete
  18. Silence speaks much more than words can, lovely poem Shashi...

    ReplyDelete
  19. चंचल चितवन ,
    या आहत मन
    संग खूब
    बोलती है
    ख़ामोशी
    Bahut Sunder....

    ReplyDelete
  20. खामोश नजरो से

    हाले दिल
    बयां कर.bhut sundar pankti.

    ReplyDelete
  21. sanjay ji ,
    deerendra ji
    nisha ji
    ruchi ji
    monika ji aapka swagat hai blog par , samaye dene ke liye dhanyavad . aapko kavita pasand aayi aur aapne samiksha di , shukriya

    saru thank you so much :)

    ReplyDelete
  22. ख़ामोशी ,
    बड़ी अदा से
    पल - पल कुछ ,
    कहती है .
    main to khamoshi ki ada me atak gai hun

    ReplyDelete
  23. ख़ामोशी को भी खूब सताती है ख़ामोशी ......

    खामोश रहे तुम भी , खामोश रहे हम भी
    दोनों की ये ख़ामोशी दूरियों की वजह बन गई .....

    ReplyDelete
  24. खामोशी " शब्द को खूब समझा शशि जी और इस सुन्दर रचना के लिए आपको बधाई !

    ReplyDelete
  25. अति उत्तम रचना

    ReplyDelete
  26. खामोशी को शब्द दिए हैं आपने ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  27. आपने ख़ामोशी के ऊपर जो भी भाव उकेरे है वो सचमुच
    सत्य है ! हमने तो कभी -कभी किसी बातों पे खामोश रहके बहुत संतुष्टि पाया है और मुझे वो भी मिल गया जो बोलने
    से नहीं मिल पता!
    बहुत सुन्दर रचना के लिये बधाई !
    मेरे ब्लॉग पे आपका स्वागत है ...

    ReplyDelete
  28. shshi ji namskaar,sundr sabdo kii ladii

    ReplyDelete





  29. प्रिय शशि पुरवार जी
    सस्नेहाभिवादन !

    सच कहा आपने मौन को पढना और ख़ामोशी को समझना भी एक कला है ........!
    और , इस कला में आप माहिर हैं :)

    चंचल चितवन ,
    या आहत मन
    संग खूब
    बोलती है
    ख़ामोशी

    अच्छी भावाभिव्यक्ति के लिए साधुवाद !


    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  30. ख़ामोशी कुछ क्या बहुत कुछ बोलती है कभी शब्दों से ज्यादा भी.

    सुंदर प्रस्तुति के लिये बधाई.

    ReplyDelete
  31. मैं आपको इतनी सुन्दर रचना के लिए ख़ामोशी से बधाई दे रही हूँ.आप समझ लें.

    ReplyDelete
  32. ख़ामोशी बोलती है । सुंदर रचना । बधाई ।

    ReplyDelete
  33. शशि जी धन्यबाद मेरे ब्लॉग "Perception" पर आने और ज्वाइन करने के लिये. कृपया मेरे दुसरे ब्लॉग "रचना रवीन्द्र" पर भी आयें और अपने विचारों से इसी तरह अवगत करें.
    धन्यबाद.

    ReplyDelete
  34. मेरे ब्लॉग पर आने का शुक्रिया.... आपने भी मन के विचारों में खामोशी कि खूबसूरती को बड़ी ही खूबसूरती के साथ प्रस्तुत किया है बहुत खूबसूरता कविता वाकई खामोशी भी बोलती है।

    ReplyDelete
  35. मौन को पढना और ख़ामोशी को समझना भी एक कला है ........!
    ekdam sahi kaha.....

    ReplyDelete
  36. बहुत ही खूबसूरत कविता । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । सादर।

    ReplyDelete
  37. ख़ामोशी का बयां...
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  38. khamoshi ki sundarta ka vivrad karna bahut mushkil hai, par ehsaas bahut sukhad.

    utkarsh
    www.utkarsh-meyar.blogspot.com

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com