सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Wednesday, June 27, 2012

पलों का बहुत है मोल ........!

 
राही जीवन है अनमोल
पलों का बहुत है मोल
सफ़र को बना सुहाना
बस हँसते हुए पग बढ़ाना .

टेढ़े -मेढ़े है रास्ते
न कोई ठौर , न ठिकाना
मंजिल अभी है दूर
सफ़र नया अनजाना
बस हँसते हुए ,
हे राही ,
आगे पग बढ़ाना .

कभी सावन -भादो
कभी पतझड़ का आना
फिसलन भरी है पगडण्डी
और हवा का भी,
बेरुखी से गुजर जाना
इन पटी हुई राहों में ,
हर पल है धोखा
राही खुद को भी जरा संभालना .

आएगा इक वक्त 
जब ठहर जायेंगे पल
थकित मन ,
सुप्त कदम ,
न मन में कोई उमंग , पर
तू न इससे घबराना
दिल को दे होसला
जीने का मिल जायेगा बहाना

जीवन तो है इक सफ़र
मृत्यु आती निश्छल ,
तू न इससे डर
जी ले जिंदगी के पलों को
सफ़र को बना सुहाना
बदल जायेंगे फिर समीकरण
बस हसंते हुए कदम बढ़ाना ....!

राही यह जीवन हैअनमोल
तू संभल कर पग बढ़ाना ..............!
:--- शशि पुरवार

19 comments:

  1. बस ऐसे ही आगे बढ़ते रहो ...मंजिल और भी खूबसूरत मिलेगी

    ReplyDelete
  2. जीवन तो है अनमोल,यहाँ पल पल का है मोल,

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,सुंदर रचना,,,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  3. We have to watch our steps so that we make less mistakes. Great poem...:)

    ReplyDelete
  4. कदम जब बढ़ता जाएगा
    मंजिल खुद करीब आएगा

    ReplyDelete
  5. कल 29/06/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. calculated steps with a smile on face..
    mantra of life..

    nice message :)

    ReplyDelete
  7. वीर तुम बढे चलो,
    धीर तुम बढे चलो...
    प्रेरित करती कविता....बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  8. सुन्दर अभिव्यक्ति....
    एक सन्देश...!

    ReplyDelete
  9. अच्छा सन्देश देती सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  10. ज़िन्दगी इक सफ़र है सुहाना...बस आगे ही बढ़ते जाना...सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  11. अच्छी प्रेरक रचना...
    सादर बधाई।

    ReplyDelete
  12. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  13. बहुत सी सुंदर !
    झरने सी झरती हुई..... आपकी ये कविता जीवन के सत्य का बखान करते हुए आसानी से जीवन के मोल और उसके उद्देश्य को समझा गयी ! Thanks for sharing !!! :)

    ReplyDelete
  14. एक उत्साहवर्धक रचना ...मन प्रसन्न

    ReplyDelete
  15. aap sabhi ka tahe dil se abhar ....doston .:)
    )

    ReplyDelete
  16. सच है ये जीवन अनमोल है ... सोच समझ के सभी काम करना चाहए ... आशा के बीज बोती रचना ...

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। कृपया दो शब्द फूल का तोहफा देकर हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार
आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com