सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, April 15, 2013

राहे चलती

शशि  पुरवार .
--------------------------------------
1
शीत काल में
केसर औ  चन्दन
काया दमके  .
2
अलसाये से
तृण औ लतिकाए
चाँदी चमकी  .
3
सर्दी  है आई
गुड की चिक्की भाई
अलाव जले  .
4
हिम से जमे
ह्रदय के जज्बात
मै को से कहूं .
5
श्वेत  रजाई
धरा को खूब भाई
कण दमके .
6
सर्द मौसम
सुलगती है पीर
नीर न बहे .
7
तन्हा सड़क 
कंपकपाती राते
चाँदनी हँसे .
8
खोल खिड़की
आई शीत लहर
भानु भी डरा .

9
 थकित मन
दूर बैठी मंजिल
राहे चलती . 
  ----शशि पुरवार

--------------------------------------------------------------------
तांका --

1 .
झरते कण
अब ढँक रहे थे
वृक्ष औ रास्ते
हम तुम भी  साथ
जम गए जज्बात .
2
सर्द मौसम
सुनसान थे रास्ते
और  किनारे
कोई सिमट रहा
था, फटी कामरी में .
3
भाजी बहार
टमाटर लाल औ
गाजर संग
सूप की भरमार
लाल हुए है गाल .
4
मटर कहे
मेरी है बादशाही
गाजर बोली
सूप हलुआ लायी
सब्जियों की लड़ाई .
5
जमती साँसे
चुभती है पवन
फर्ज प्रथम     
जवानों की गश्त के
बर्फीले है कदम .

शशि पुरवार

17 comments:

  1. बहुत उम्दा,हाइकू और तांका, आभार शशि जी,
    Recent Post : अमन के लिए.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज मंगलवार (16-04-2013) के मंगलवारीय चर्चा ---(1216) ये धरोहर प्यार की बेदाम है (मयंक का कोना) पर भी होगी!
    नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  3. बहुत उम्दा,हाइकू .एक से बढ़ कर एक ......... शशि जी

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर .... हाइकु और तांका दोनों ही प्रभावशाली

    ReplyDelete
  5. वाह...
    बहुत बढ़िया!!!
    हायकू और तांका भी..दोनों ही लाजवाब!!

    अनु

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर....बेहतरीन प्रस्तुति
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    ReplyDelete

  7. विचारपूर्ण भावुक
    गहन अनुभूति
    सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  8. श्वेत रजाई
    धरा को खूब भाई
    कण दमके ...

    उम्दा हाइकू ओर गज़ब के तांका ... गर्मी में शरद का एहसास करा दिया ...
    बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  9. वाह !!! बहुत बेहतरीन सुंदर हाइकू और तांका ,आभार,

    RECENT POST : क्यूँ चुप हो कुछ बोलो श्वेता.

    ReplyDelete
  10. सुंदर हाइकू .अच्छी प्रस्तुति .बधाई .

    ReplyDelete
  11. उत्तम भाव.
    आभार.

    ReplyDelete
  12. सुंदर हाईकु व तांका !
    सर्दियों की याद दिला दी आपने शशि जी... :)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  13. भूल गईं दहशतगर्दी,
    चैत की पलास-पगड़ी देख
    खिसक गई सर्दी!

    ReplyDelete
  14. बहुत बहुत सुंदर. कम शब्दों में बात कहना अपने आप में चुनौती है... आप ने इस चुनौती को सटीकता से सम्हाला है -अभिनन्दन-

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com