Monday, April 29, 2013

कह दो मन की बातें


1
छूटी सारी गलियाँ
बाबुल का अँगना
वो बाग़ों की कलियाँ ।
2
सारे  थे दर्द  सहे
तन- मन टूट गए
आँखों से पीर बहे ।
3
थी तपन भरी आँखें
मन भी मौन रहा
थी टूट रही साँसें ।

4
पीड़ा फिर  क्यों  भड़की ?
भाव  सभी सोए
खोली दिल की खिड़की
5
क्या पाप किया मैंने !
गरल भरा  प्याला
हर रोज़ पिया मैंने  ।


  शशि पुरवार

12 comments:

  1. वाह !!! बहुत बढ़िया,उम्दा प्रस्तुति !!! शशि जी,,,
    Recent post: तुम्हारा चेहरा ,

    ReplyDelete
  2. बातें मन की कह जाने दो..

    ReplyDelete
  3. बातें मन की गहन पीड़ा को लिए हुये ..... एक ही पोस्ट आपकी दो बार लिखी गयी है । एडिट कर लें

    ReplyDelete
  4. मन के दर्द को कुछ शब्दों में कहने का गहन प्रयास ... ओर सफल रहा ये प्रयास ...
    बहुत ही उम्दा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरती से लिखे गए माहिया, गाते गाते मन प्रसन्न हो गया। हार्दिक बधाई शशि....

    ReplyDelete
  6. हृदयस्पर्शी..

    ReplyDelete
  7. हृदयस्पर्शी..

    ReplyDelete

  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति शशि जी !

    latest postजीवन संध्या
    latest post परम्परा

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब कही आपने दिल की बात |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  10. मन के दर्द को सुन्दर शब्दों में प्रस्तुति,आपका आभार.

    ReplyDelete
  11. मन की पीड़ा, नन्हे-नन्हे बिम्बों में सुंदरता से व्यक्त की गई हैं.

    ReplyDelete

यहाँ तक आएं है तो दो शब्द जरूर लिखें, आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार

आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय निवेदन



छैल छबीली

छैल छबीली फागुनी, मन मयूर मकरंद ढोल, मँजीरे, दादरा, बजे ह्रदय में छंद। 1 मौसम ने पाती लिखी, उड़ा गुलाबी रंग पात पात फागुन धरे,...

linkwith

http://sapne-shashi.blogspot.com