सपने

सपने मेरे नहीं आपके व हमारे सपने हे , समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से मेरी जन्मी रचनाएँ आपकी ही आवाज हैं.
इन आँखों में एक ख्वाब पलता
है,
सुकून हो हर दिल में,
इक दिया आश का जलता है.
बदल दो जहाँ को हौसलों के संग
इसी मर्ज से जीवन खुशहाल चलता है - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी . समाज में सकारात्मकता फैलाने का नाम है जिंदगी , बेटियों से भी रौशन होता है यह जहाँ , सिर्फ बेटे ही नही बेटियों को भी आगे बढ़ाने का नाम है जिंदगी।
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

https://www.facebook.com/shashi.purwar

FOLLOWERS

Saturday, April 20, 2013

रिश्ते .........



रिश्ते
तांका --

1
दोस्ती के रिश्ते
पावन औ पवित्र
हीरे मोती से
महकते गुलाब
जीवन के पथ पर .

2
दो अजनबी
जीवन के मोड़ पे
कुछ यू मिले
सात फेरो में बंधा
जन्मो जन्मो का रिश्ता .

3
चाँद सितारे
खिले जब अंगना
स्नेहिल रिश्ता
ममता का बिछोना
आशीष रुपी  झरे
अब हरसिंगार .

4
ये कैसे रिश्ते
नापाक इरादों से
आतंक भरे
सिमटते जज्बात
बिखरे फिर ख्वाब .

5
नाजुक रिश्ते
कांच से ज्यादा कच्चे
पारदर्शिता
विश्वास  की दीवारे
प्रेम  का है आइना .

-------शशि पुरवार 

12 comments:

  1. रिश्ते पर हर रचना सटीक ... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. उम्दा रेखांकन..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  3. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार (20-04-2013) के   धूम , जयकार , झगडे , प्यार और मनुहार के साथ (मयंक का कोना)  पर भी होगी!
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  4. यथार्थ को परिभाषित करती खूबसूरत प्रस्तुति ! बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  5. ,रिश्तों को परिभाषित करती सुंदर रचना,,

    RECENT POST : प्यार में दर्द है,

    ReplyDelete
  6. दो अजनबी
    जीवन के मोड़ पे
    कुछ यू मिले
    सात फेरो में बंधा
    जन्मो जन्मो का रिश्ता .
    ..बहुत सही ..सच ही कहते हैं रिश्ते ऊपर से बनकर आते हैं ...

    ReplyDelete
  7. बढ़िया है आदरणीया-
    शुभकामनायें-

    अक्षर थोड़े बड़े चाहियें-

    ReplyDelete
  8. बेहद खूबसूरत कतरे , और इत्तेफ़ाक देखिए कि हम आपके डेढ सौंवें ब्लॉग मित्र बन गए हैं

    ReplyDelete
  9. रिश्तों के खूबसूरत रंग बिखेर दिए आपने तो......
    सुंदर परिभाषा......

    ReplyDelete
  10. रिश्तों को परिभाषित करती ... सभी क्षणिकाएं प्रभावी ...

    ReplyDelete
  11. behad khoob soorat kshanikayen .............rishton pr bareek najar.

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए अनमोल है। कृपया दो शब्द फूल का तोहफा देकर हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार
आपके ब्लॉग तक आने के लिए कृपया अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में पोस्ट करें
सविनय



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com