सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Tuesday, April 9, 2013

वीणा के स्वर ..

1
वीणा के स्वर
तबले की संगत
मधुर तान .

2स्वर लहरी
जीवन की प्रेरणा
बजी है वीणा .

3स्वर संगीत
तन मन भी झूमे
पीर भी भूले .

4
वाद्य यंत्र से
बिखरा है संगीत
 मनमोहक

5
सुर संगम
खिला मन प्रांगन
जीवन मीत.

6
नर्म स्पर्श
ममता का आँचल
शिशु मुस्काए

7
माँ से मायका
पिता जग दर्शन
मार्गदर्शन

8
कभी न भूले
वह स्नेहिल स्पर्श
ननिहाल का .

--------शशि पुरवार

20 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    ReplyDelete
  2. उम्दा,बहुत प्रभावी हाइकू प्रस्तुति के लिए बधाई!!!शशि जी

    recent post : भूल जाते है लोग,

    ReplyDelete
  3. गहन अनुभूति सार्थक अभिव्यक्ति
    उत्कृष्ट प्रस्तुति


    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  4. शशि जी बहुत ही सुन्दर मन को गुदगुदाने वाली क्षणिकाएं पढ़ना बहुत ही अच्छा लगा |

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार (10-04-2013) के "साहित्य खजाना" (चर्चा मंच-1210) (मयंक का कोना) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  6. गहन अनुभूति,बेहतरीन सुन्दर हाइकू,सादर धन्यबाद.

    ReplyDelete
  7. शशि पुरवार जी!
    आपके द्वारा पोस्ट किये गये सभी हाइकू बहुत सुन्दर हैं।

    ReplyDelete
  8. 2स्वर लहरी
    जीवन की प्रेरणा
    बजी है वीणा ...

    वाह ... लाजवाब हैं सभी हाइकू ओर जहां ताल मिल जाए वो तो कमाल के हो जाते हैं हाइकू ...

    ReplyDelete
  9. parivaar ke sabhi sadayon aur mitro ki tahe dil se abhaar

    ReplyDelete
  10. लाजवाब हाइकू
    स्वागत है आपका
    मेरे मंच पर भी आपकी प्रतीक्षा है
    गुज़ारिश : ''यादें याद आती हैं.....''

    ReplyDelete
  11. वीणा की तान सुनाते हाइकु

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर संगीतमय हाइकु...

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत हाइकु , नव वर्ष की मंगल कामनाऐ

    ReplyDelete
  14. रहे गूँजता
    सा रे ग म प ध नि
    जीवन संगीत ||

    बोली तुतली
    उड़ उड़ तितली
    गया मायका ||

    सुंदर हाइकू
    सरगम मायका
    सुहाने द्वय ||

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन रचना
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    ReplyDelete
  16. सभी हाइकू संगीतमय और लाजवाब हैं.

    अभिनन्दन.

    ReplyDelete
  17. नवरात्रों की बहुत बहुत शुभकामनाये
    आपके ब्लाग पर बहुत दिनों के बाद आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ
    बहुत खूब बेह्तरीन अभिव्यक्ति!शुभकामनायें
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    मेरी मांग

    ReplyDelete
  18. स्वर लहरी-से हाइकु. सभी बहुत सुन्दर और भावपूर्ण, बधाई.

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com