सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, June 3, 2013

दिल का पैगाम साहिबा लाया ..........



दिल का पैगाम साहिबा लाया
छंद भावो के फिर सजा लाया।

बात दिल की कही अदा से यूँ
प्यार उनका मुझे लुभा लाया।
 
भाग  का खेल जब करे बिछडन 
ये कहाँ प्यार में सजा  लाया।

सात वचनों जुडा था ये बंधन
फिर मिलेंगे अगर खुदा लाया।

प्यार मरता नहीं कभी दिल में
याद तेरी सदा जिला लाया।

धूप में जल रहे ज़माने की
याद उनकी नर्म दवा लाया।

कल्पना में सदा रहोगे तुम
रात ये चाँद से हवा लाया।

आज जीने का रास्ता पाया 
चाँद उनसे मुझे मिला लाया।
--------- शशि पुरवार

२५ .० ५ .१ ३





20 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज सोमवार (03-06-2013) को फिर वोही गुज़ारिश :चर्चा मंच 1264 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 05/06/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. आज जीने का रास्ता पाया
    चाँद उनसे मुझे मिला लाया।
    Behad sundar! Aap sada aapke apnon se miltee rahen!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भाव पिरोये हैं।

    ReplyDelete
  5. बेहद सुन्दर भाव,आज जीने का रास्ता पाया
    चाँद उनसे मुझे मिला लाया।

    ReplyDelete
  6. अच्छी रचना. बेहतरीन

    ReplyDelete
  7. अति सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  8. सात वचनों जुडा था ये बंधन
    फिर मिलेंगे अगर खुदा लाया..

    मिलने वाले जरूर मिलते हैं .. खुदा खुद मिलाता है ... बहुत खूब ..
    सुन्दर गज़ल ...

    ReplyDelete
  9. sabhi mitro ka tahe dil se abhaar , apke anmol shabd hamare liye bhi anmol hai sada saath rahenge yeh yaad bankar

    ReplyDelete
  10. कल्पना में सदा रहोगे तुम
    रात ये चाँद से हवा लाया।

    कल्पना और अफसाने हकीकत में बदले जा सकते हैं आवश्यकता शिद्दत से प्रयास की है

    ReplyDelete
  11. प्यार मरता नहीं कभी दिल में
    याद तेरी सदा जिला लाया।
    sacchi bat .......

    ReplyDelete
  12. वाह शशि जी बहुत ही खुबसूरत गजल
    बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  13. बहुत ही खुबसूरत गजल..........शशि जी
    आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    ReplyDelete
  14. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार ४ /६/१३ को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आप का वहां हार्दिक स्वागत है ।

    ReplyDelete
  15. सात वचनों जुडा था ये बंधन
    फिर मिलेंगे अगर खुदा लाया।

    बहुत सुंदर भावपूर्ण गजल ,,,

    recent post : ऐसी गजल गाता नही,

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com