सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Saturday, April 28, 2012

जीवन मुट्ठी से फिसलती रेत....



जीवन मुट्ठी से फिसलती रेत
पल -पल बदलता
वक़्त का फेर
हिम्मत से डटे रहना
यहीं है कर्मो का खेल !

हर आहट देती है
सुनहरे कदमो के निशां
चिलचिलाती धुप में
नंगे पैरों से चलकर
बनता है आशियाँ !

छोड़ो बीती बातें
मुड के न देखना
वक़्त जीने का है कम
रस्सी को ज्यादा न खेचना !

जीवन आस की पगडण्डी
इसके टेढ़े -मेढ़े है रास्ते
आसां नहीं है यह पथ
हिम्मत कभी न छोड़ना

अथाह है जीवन का समंदर
प्यास बढती ही जाती
पार हो जायेगा तू , हे नाविक
हाथों से इसको खेना !

उम्र न ठहरेगी एक पल
जी ले प्राणी,
तू मन का चंचल
मौत आएगी चुपके से
तब ख़त्म हो जायेगा यह सफ़र !

जीवन मुट्ठी से .............!

:-- शशि पुरवार
 

18 comments:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति,..बेहतरीन पोस्ट

    MY RESENT POST .....आगे कोई मोड नही ....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर............

    मुट्ठी ना ज्यादा कसनी है ना ढीली छोडनी है..............

    ReplyDelete
  3. सकारात्मक सोच लिये बहुत सुंदर और प्रभावी रचना...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया



    सादर

    ReplyDelete
  5. कल 29/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    हलचल - एक निवेदन +आज के लिंक्स

    ReplyDelete
  6. जीवन का हौसला बढ़ाती बेहतरीन रचना शशि जी...
    आप यूँ ही लिखती रहें हम सब का हौसला बढ़ता रहे यही दुआ है....

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब लिखा है |
    आशा

    ReplyDelete
  8. प्रेरक और खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  9. जीवन दर्शन को समेटे सार्थक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  10. बहुत गहरी बात कही है आपने शशि जी

    ReplyDelete
  11. नंगे पैरों से चलकर बनता है आशियाँ.

    यह समीक्षा भी जरूरी है समय समय पर सही राह पकडने के लिये. गया वक्त भी दोबारा नहीं आता.

    सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन और शानदार......आखिरी पंक्तियाँ तो कमाल की हैं।

    ReplyDelete
  13. ये ही जिंदगी हैं

    ReplyDelete
  14. सच है जीवन में हिम्मत नहीं छोडनी चाहिए ...कठिनाइयां तो आती रहेंगी सामना जरूरी है ... अच्छी रचना ..

    ReplyDelete
  15. आपके पोस्ट पर आना सार्थक हुआ । प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com