सपने

सपने मेरे नहीं आपके सपने, हमारे सपने, समाज में व्याप्त विसंगतियां मन को व्यथित करती हैं. संवेदनाओं की पृष्ठभूमि से जन्मी रचनाएँ मेरीनहीं आपकी आवाज हैं. इन आँखों में एक ख्वाब पलता है, सुकून हो हर दिल में इक दिया आश का जलता है. - शशि.
शशि का अर्थ है -- चन्द्रमा, तो चाँद सी शीतलता प्रदान करने का नाम है जिंदगी .
शब्दों की मिठास व रचना की सुवास ताउम्र अंतर्मन महकातें हैं. मेरे साथ सपनों की हसीन वादियों में आपका स्वागत है.

follow on facebook

FOLLOWERS

Monday, July 22, 2013

एक मुक्तक --


धरा खिलती है अंबर खिलता है
पौधे रोपिये जीवन मिलता है
उजियारा फैलता है कण कण में
धूप निकली जब सूरज जलता है .

- शशि पुरवार

19 comments:

  1. शुभ-कामनाएं ।

    ReplyDelete
  2. प्रकाश फैलाने के लिये किसी न किसी को जलना ही पड़ता है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर संदेश.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. बहुत सार्थक सन्देश...

    ReplyDelete
  5. सार्थक सन्देश लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    शब्दों की मुस्कुराहट पर .... हादसों के शहर में :)

    ReplyDelete
  6. Kitna sach farmaya! Jab koyi jalta hai tabhi ujala hota hai...sooraj ho ya shama!

    ReplyDelete
  7. आपकी इस शानदार प्रस्तुति की चर्चा कल मंगलवार २३/७ /१३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है सस्नेह ।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर,

    यहाँ भी पधारे
    गुरु को समर्पित
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  9. वृक्षे-वृक्षे वेणुधारी ,पत्रे-पत्रे चतुर्भुजः -वनस्पतियाँ सर्वविधि हमारा कल्याण करती हैं .

    ReplyDelete

  10. ापने लिखा... हमने पढ़ा... और भी पढ़ें...इस लिये आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 26-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...


    ReplyDelete
  11. बधाई! यहाँ भी पधारें
    http://www.rajeevranjangiri.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब ... लाजवाब मुक्तक .. सूरज आशा ले कर आता है ...

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete

नमस्कार मित्रों, आपके शब्द हमारे लिए अनमोल है यहाँ तक आ ही गएँ हैं तो अपनी अनमोल प्रतिक्रिया व्यक्त करके हमें अनुग्रहित करें. स्नेहिल धन्यवाद ---शशि पुरवार



linkwith

sapne-shashi.blogspot.com